phool ne tahni se udne ki koshish ki | फूल ने टहनी से उड़ने की कोशिश की - Gulzar

phool ne tahni se udne ki koshish ki
ik taair ka dil rakhne ki koshish ki

kal phir chaand ka khanjar ghonp ke seene mein
raat ne meri jaan lene ki koshish ki

koi na koi rahbar rasta kaat gaya
jab bhi apni rah chalne ki koshish ki

kitni lambi khaamoshi se guzra hoon
un se kitna kuchh kehne ki koshish ki

ek hi khwaab ne saari raat jagaaya hai
main ne har karvat sone ki koshish ki

ek sitaara jaldi jaldi doob gaya
main ne jab taare ginne ki koshish ki

naam mera tha aur pata apne ghar ka
us ne mujh ko khat likhne ki koshish ki

ek dhuen ka margola sa nikla hai
mitti mein jab dil bone ki koshish ki

फूल ने टहनी से उड़ने की कोशिश की
इक ताइर का दिल रखने की कोशिश की

कल फिर चाँद का ख़ंजर घोंप के सीने में
रात ने मेरी जाँ लेने की कोशिश की

कोई न कोई रहबर रस्ता काट गया
जब भी अपनी रह चलने की कोशिश की

कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की

एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है
मैं ने हर करवट सोने की कोशिश की

एक सितारा जल्दी जल्दी डूब गया
मैं ने जब तारे गिनने की कोशिश की

नाम मिरा था और पता अपने घर का
उस ने मुझ को ख़त लिखने की कोशिश की

एक धुएँ का मर्ग़ोला सा निकला है
मिट्टी में जब दिल बोने की कोशिश की

- Gulzar
2 Likes

Neend Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gulzar

As you were reading Shayari by Gulzar

Similar Writers

our suggestion based on Gulzar

Similar Moods

As you were reading Neend Shayari Shayari