tinka tinka kaante tode saari raat kataai ki | तिनका तिनका काँटे तोड़े सारी रात कटाई की - Gulzar

tinka tinka kaante tode saari raat kataai ki
kyun itni lambi hoti hai chaandni raat judaai ki

neend mein koi apne-aap se baatein karta rehta hai
kaal-kue mein goonjti hai awaaz kisi saudaai ki

seene mein dil ki aahat jaise koi jaasoos chale
har saaye ka peecha karna aadat hai harjaai ki

aankhon aur kaanon mein kuchh sannaate se bhar jaate hain
kya tum ne udti dekhi hai ret kabhi tanhaai ki

taaron ki raushan faslen aur chaand ki ek daraanti thi
sahoo ne girvi rakh li thi meri raat kataai ki

तिनका तिनका काँटे तोड़े सारी रात कटाई की
क्यूँ इतनी लम्बी होती है चाँदनी रात जुदाई की

नींद में कोई अपने-आप से बातें करता रहता है
काल-कुएँ में गूँजती है आवाज़ किसी सौदाई की

सीने में दिल की आहट जैसे कोई जासूस चले
हर साए का पीछा करना आदत है हरजाई की

आँखों और कानों में कुछ सन्नाटे से भर जाते हैं
क्या तुम ने उड़ती देखी है रेत कभी तन्हाई की

तारों की रौशन फ़सलें और चाँद की एक दरांती थी
साहू ने गिरवी रख ली थी मेरी रात कटाई की

- Gulzar
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gulzar

As you were reading Shayari by Gulzar

Similar Writers

our suggestion based on Gulzar

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari