waqt ajeeb cheez hai waqt ke saath dhal gaye | वक़्त अजीब चीज़ है वक़्त के साथ ढल गए - Hasan Aabid

waqt ajeeb cheez hai waqt ke saath dhal gaye
tum bhi bahut badal gaye ham bhi bahut badal gaye

mere labon ke vaaste ab vo samaaten kahaan
tum se kahein bhi kya ki tum door bahut nikal gaye

tez hawa ne har taraf aag bikher di tamaam
apne hi ghar ka zikr kya shehar ke shehar jal gaye

mauja-e-gul se ham-kinaar ahl-e-junoon ajeeb the
jaane kahaan se aaye the jaane kidhar nikal gaye

shauq-e-visaal tha bahut so hai visaal hi visaal
hijr ke rang ab kahaan mausam-e-gham badal gaye

soorat-e-haal ab ye hai ki log khilaaf hain mere
ai mere hum-khayaal-o-khwaab tum to nahin badal gaye

boo-e-gul aur hisaar-e-gul ahl-e-chaman pe zulm hai
apni hudood-e-zaat se jaan ke ham nikal gaye

aab-e-hayaat jaan kar zahar piya gaya yahan
zahar bhi khaamoshi ka zahar-e-jism tamaam gal gaye

sham-e-badan bhi the kai rah-e-junoon mein hum-safar
taab-e-muqaawamat na thi dhoop padi pighal gaye

वक़्त अजीब चीज़ है वक़्त के साथ ढल गए
तुम भी बहुत बदल गए हम भी बहुत बदल गए

मेरे लबों के वास्ते अब वो समाअतें कहाँ
तुम से कहें भी क्या कि तुम दूर बहुत निकल गए

तेज़ हवा ने हर तरफ़ आग बिखेर दी तमाम
अपने ही घर का ज़िक्र क्या शहर के शहर जल गए

मौजा-ए-गुल से हम-कनार अहल-ए-जुनूँ अजीब थे
जाने कहाँ से आए थे जाने किधर निकल गए

शौक़-ए-विसाल था बहुत सो है विसाल ही विसाल
हिज्र के रंग अब कहाँ मौसम-ए-ग़म बदल गए

सूरत-ए-हाल अब ये है कि लोग ख़िलाफ़ हैं मिरे
ऐ मिरे हम-ख़याल-ओ-ख़्वाब तुम तो नहीं बदल गए

बूए-गुल और हिसार-ए-गुल अहल-ए-चमन पे ज़ुल्म है
अपनी हुदूद-ए-ज़ात से जान के हम निकल गए

आब-ए-हयात जान कर ज़हर पिया गया यहाँ
ज़हर भी ख़ामुशी का ज़हर-ए-जिस्म तमाम गल गए

शम-ए-बदन भी थे कई राह-ए-जुनूँ में हम-सफ़र
ताब-ए-मुक़ावमत न थी धूप पड़ी पिघल गए

- Hasan Aabid
0 Likes

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Hasan Aabid

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari