ham raaton ko uth uth ke jin ke liye rote hain | हम रातों को उठ उठ के जिन के लिए रोते हैं - Hasrat Jaipuri

ham raaton ko uth uth ke jin ke liye rote hain
vo gair ki baanhon mein aaraam se sote hain

ham ashk judaai ke girne hi nahin dete
bechain si palkon mein moti se pirote hain

hota chala aaya hai be-dard zamaane mein
sacchaai ki raahon mein kaante sabhi bote hain

andaaz-e-sitam un ka dekhe to koi hasrat
milne ko to milte hain nashtar se chubhote hain

हम रातों को उठ उठ के जिन के लिए रोते हैं
वो ग़ैर की बाँहों में आराम से सोते हैं

हम अश्क जुदाई के गिरने ही नहीं देते
बेचैन सी पलकों में मोती से पिरोते हैं

होता चला आया है बे-दर्द ज़माने में
सच्चाई की राहों में काँटे सभी बोते हैं

अंदाज़-ए-सितम उन का देखे तो कोई 'हसरत'
मिलने को तो मिलते हैं नश्तर से चुभोते हैं

- Hasrat Jaipuri
4 Likes

Faasla Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hasrat Jaipuri

As you were reading Shayari by Hasrat Jaipuri

Similar Writers

our suggestion based on Hasrat Jaipuri

Similar Moods

As you were reading Faasla Shayari Shayari