ai dil waalo ghar se niklo deta daawat-e-aam hai chaand | ऐ दिल वालो घर से निकलो देता दावत-ए-आम है चाँद - Ibn E Insha

ai dil waalo ghar se niklo deta daawat-e-aam hai chaand
shehron shehron qariyon qariyon vehshat ka paighaam hai chaand

tu bhi hare dariche waali aa ja bar-sar-e-baam hai chaand
har koi jag mein khud sa dhunde tujh bin base aaraam hai chaand

sakhiyon se kab sakhiyaan apne jee ke bhed chhupaati hain
ham se nahin to us se kah de karta kahaan kalaam hai chaand

jis jis se use rabt raha hai aur bhi log hazaaron hain
ek tujhi ko be-mehri ka deta kyun ilzaam hai chaand

vo jo tera daagh ghulaami maathe par liye firta hai
us ka naam to insha thehra naahak ko badnaam hai chaand

ham se bhi do baatein kar le kaisi bheegi shaam hai chaand
sab kuchh sun le aap na bole tera khoob nizaam hai chaand

ham is lambe-chaude ghar mein shab ko tanhaa hote hain
dekh kisi din aa mil ham se ham ko tujh se kaam hai chaand

apne dil ke mashriq-o-maghrib us ke rukh se munavvar hain
be-shak tera roop bhi kaamil be-shak tu bhi tamaam hai chaand

tujh ko to har shaam falak par ghatta-badhata dekhte hain
us ko dekh ke eed karenge apna aur islaam hai chaand

ऐ दिल वालो घर से निकलो देता दावत-ए-आम है चाँद
शहरों शहरों क़रियों क़रियों वहशत का पैग़ाम है चाँद

तू भी हरे दरीचे वाली आ जा बर-सर-ए-बाम है चाँद
हर कोई जग में ख़ुद सा ढूँडे तुझ बिन बसे आराम है चाँद

सखियों से कब सखियाँ अपने जी के भेद छुपाती हैं
हम से नहीं तो उस से कह दे करता कहाँ कलाम है चाँद

जिस जिस से उसे रब्त रहा है और भी लोग हज़ारों हैं
एक तुझी को बे-मेहरी का देता क्यूँ इल्ज़ाम है चाँद

वो जो तेरा दाग़ ग़ुलामी माथे पर लिए फिरता है
उस का नाम तो 'इंशा' ठहरा नाहक़ को बदनाम है चाँद

हम से भी दो बातें कर ले कैसी भीगी शाम है चाँद
सब कुछ सुन ले आप न बोले तेरा ख़ूब निज़ाम है चाँद

हम इस लम्बे-चौड़े घर में शब को तन्हा होते हैं
देख किसी दिन आ मिल हम से हम को तुझ से काम है चाँद

अपने दिल के मश्रिक-ओ-मग़रिब उस के रुख़ से मुनव्वर हैं
बे-शक तेरा रूप भी कामिल बे-शक तू भी तमाम है चाँद

तुझ को तो हर शाम फ़लक पर घटता-बढ़ता देखते हैं
उस को देख के ईद करेंगे अपना और इस्लाम है चाँद

- Ibn E Insha
0 Likes

Rishta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ibn E Insha

As you were reading Shayari by Ibn E Insha

Similar Writers

our suggestion based on Ibn E Insha

Similar Moods

As you were reading Rishta Shayari Shayari