log hilaal-e-shaam se badh kar pal mein maah-e-tamaam hue | लोग हिलाल-ए-शाम से बढ़ कर पल में माह-ए-तमाम हुए - Ibn E Insha

log hilaal-e-shaam se badh kar pal mein maah-e-tamaam hue
ham har burj mein ghatte ghatte subh talak gumnaam hue

un logon ki baat karo jo ishq mein khush-anjaam hue
najd mein qais yahan par insha khaar hue naakaam hue

kis ka chamakta chehra laayein kis suraj se maange dhoop
ghur andhera chha jaata hai khalwat-e-dil mein shaam hue

ek se ek junoon ka maara is basti mein rehta hai
ek humeen hushiyaar the yaaro ek humeen bad-naam hue

shauq ki aag nafs ki garmi ghatte ghatte sard na ho
chaah ki raah dikha kar tum to waqf-e-dareecha-o-baam hue

un se bahaar o baagh ki baatein kar ke jee ko dukhaana kya
jin ko ek zamaana guzra kunj-e-qafas mein raam hue

inshaa'-saahib pau phatti hai taare doobe subh hui
baat tumhaari maan ke ham to shab bhar be-aaraam hue

लोग हिलाल-ए-शाम से बढ़ कर पल में माह-ए-तमाम हुए
हम हर बुर्ज में घटते घटते सुब्ह तलक गुमनाम हुए

उन लोगों की बात करो जो इश्क़ में ख़ुश-अंजाम हुए
नज्द में क़ैस यहाँ पर 'इंशा' ख़ार हुए नाकाम हुए

किस का चमकता चेहरा लाएँ किस सूरज से माँगें धूप
घूर अँधेरा छा जाता है ख़ल्वत-ए-दिल में शाम हुए

एक से एक जुनूँ का मारा इस बस्ती में रहता है
एक हमीं हुशियार थे यारो एक हमीं बद-नाम हुए

शौक़ की आग नफ़स की गर्मी घटते घटते सर्द न हो
चाह की राह दिखा कर तुम तो वक़्फ़-ए-दरीचा-ओ-बाम हुए

उन से बहार ओ बाग़ की बातें कर के जी को दुखाना क्या
जिन को एक ज़माना गुज़रा कुंज-ए-क़फ़स में राम हुए

'इंशा'-साहिब पौ फटती है तारे डूबे सुब्ह हुई
बात तुम्हारी मान के हम तो शब भर बे-आराम हुए

- Ibn E Insha
0 Likes

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ibn E Insha

As you were reading Shayari by Ibn E Insha

Similar Writers

our suggestion based on Ibn E Insha

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari