kuch kehne ka waqt nahin ye kuch na kaho khaamosh raho | कुछ कहने का वक़्त नहीं ये कुछ न कहो ख़ामोश रहो - Ibn E Insha

kuch kehne ka waqt nahin ye kuch na kaho khaamosh raho
ai logo khaamosh raho haan ai logo khaamosh raho

sach achha par us ke jilau mein zahar ka hai ik pyaala bhi
paagal ho kyun naahak ko suqraat bano khaamosh raho

un ka ye kehna suraj hi dharti ke phere karta hai
sar-aankhon par suraj hi ko ghoomne do khaamosh raho

mahbas mein kuch habs hai aur zanjeer ka aahan chubhta hai
phir socho haan phir socho haan phir socho khaamosh raho

garm aansu aur thandi aahen man mein kya kya mausam hain
is bagiya ke bhed na kholo sair karo khaamosh raho

aankhen moond kinaare baitho man ke rakho band kiwaad
insha'-ji lo dhaaga lo aur lab si lo khaamosh raho

कुछ कहने का वक़्त नहीं ये कुछ न कहो ख़ामोश रहो
ऐ लोगो ख़ामोश रहो हाँ ऐ लोगो ख़ामोश रहो

सच अच्छा पर उस के जिलौ में ज़हर का है इक प्याला भी
पागल हो क्यूँ नाहक़ को सुक़रात बनो ख़ामोश रहो

उन का ये कहना सूरज ही धरती के फेरे करता है
सर-आँखों पर सूरज ही को घूमने दो ख़ामोश रहो

महबस में कुछ हब्स है और ज़ंजीर का आहन चुभता है
फिर सोचो हाँ फिर सोचो हाँ फिर सोचो ख़ामोश रहो

गर्म आँसू और ठंडी आहें मन में क्या क्या मौसम हैं
इस बगिया के भेद न खोलो सैर करो ख़ामोश रहो

आँखें मूँद किनारे बैठो मन के रक्खो बंद किवाड़
'इंशा'-जी लो धागा लो और लब सी लो ख़ामोश रहो

- Ibn E Insha
1 Like

Aashiq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ibn E Insha

As you were reading Shayari by Ibn E Insha

Similar Writers

our suggestion based on Ibn E Insha

Similar Moods

As you were reading Aashiq Shayari Shayari