raat ke khwaab sunaayein kis ko raat ke khwaab suhaane the | रात के ख़्वाब सुनाएँ किस को रात के ख़्वाब सुहाने थे - Ibn E Insha

raat ke khwaab sunaayein kis ko raat ke khwaab suhaane the
dhundle dhundle chehre the par sab jaane-pahchaane the

ziddi wahshi allahad chanchal meethe log raseele log
hont un ke ghazalon ke misre aankhon mein afsaane the

vehshat ka unwaan hamaari un mein se jo naar bani
dekhenge to log kaheinge insha'-ji deewane the

ye ladki to in galiyon mein roz hi ghooma karti thi
is se un ko milna tha to is ke laakh bahaane the

ham ko saari raat jagaaya jalte bujhte taaron ne
ham kyun un ke dar par utre kitne aur thikaane the

रात के ख़्वाब सुनाएँ किस को रात के ख़्वाब सुहाने थे
धुँदले धुँदले चेहरे थे पर सब जाने-पहचाने थे

ज़िद्दी वहशी अल्लहड़ चंचल मीठे लोग रसीले लोग
होंट उन के ग़ज़लों के मिसरे आँखों में अफ़्साने थे

वहशत का उनवान हमारी उन में से जो नार बनी
देखेंगे तो लोग कहेंगे 'इंशा'-जी दीवाने थे

ये लड़की तो इन गलियों में रोज़ ही घूमा करती थी
इस से उन को मिलना था तो इस के लाख बहाने थे

हम को सारी रात जगाया जलते बुझते तारों ने
हम क्यूँ उन के दर पर उतरे कितने और ठिकाने थे

- Ibn E Insha
1 Like

Wahshat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ibn E Insha

As you were reading Shayari by Ibn E Insha

Similar Writers

our suggestion based on Ibn E Insha

Similar Moods

As you were reading Wahshat Shayari Shayari