ai mausam-e-junoon ye ajab tarz-e-qatl hai | ऐ मौसम-ए-जुनूँ ये अजब तर्ज़-ए-क़त्ल है - Ibrat Machlishahri

ai mausam-e-junoon ye ajab tarz-e-qatl hai
insaaniyat ke kheton mein laashon ki fasl hai

apne lahu ka rang bhi pahchaanti nahin
insaan ke naseeb mein andhon ki nasl hai

munsif to faislon ki tijaarat mein lag gaye
ab jaane kis se ham ko taqaza-e-adl hai

dushman ka hausla kabhi itna qavi na tha
mere tabaah hone mein tera bhi dakhl hai

ladte bhi hain to pyaar se munh modte nahin
ham se kahi ziyaada to bacchon mein aql hai

taarikh kah rahi hai ki chehra badal gaya
insaan hai musir ki wahi apni shakl hai

dawa-e-khun-baha na tazallum na ehtijaaj
kis be-nawa-e-waqt ka ibarat ye qatl hai

ऐ मौसम-ए-जुनूँ ये अजब तर्ज़-ए-क़त्ल है
इंसानियत के खेतों में लाशों की फ़स्ल है

अपने लहू का रंग भी पहचानती नहीं
इंसान के नसीब में अंधों की नस्ल है

मुंसिफ़ तो फ़ैसलों की तिजारत में लग गए
अब जाने किस से हम को तक़ाज़ा-ए-अद्ल है

दुश्मन का हौसला कभी इतना क़वी न था
मेरे तबाह होने में तेरा भी दख़्ल है

लड़ते भी हैं तो प्यार से मुँह मोड़ते नहीं
हम से कहीं ज़ियादा तो बच्चों में अक़्ल है

तारीख़ कह रही है कि चेहरा बदल गया
इंसान है मुसिर कि वही अपनी शक्ल है

दावा-ए-ख़ूँ-बहा न तज़ल्लुम न एहतिजाज
किस बे-नवा-ए-वक़्त का 'इबरत' ये क़त्ल है

- Ibrat Machlishahri
0 Likes

Rang Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ibrat Machlishahri

As you were reading Shayari by Ibrat Machlishahri

Similar Writers

our suggestion based on Ibrat Machlishahri

Similar Moods

As you were reading Rang Shayari Shayari