apne ehsaanon ka neela saaebaan rahne diya | अपने एहसानों का नीला साएबाँ रहने दिया - Ibrat Machlishahri

apne ehsaanon ka neela saaebaan rahne diya
cheen li chat aur sar par aasmaan rahne diya

aaj us ki be-zabaani ne mujhe samjha diya
kis liye fitrat ne gul ko be-zabaan rahne diya

zindagi to kya asaasa tak nahin baaki bacha
qaatilon ne ab ke bas khaali makaan rahne diya

khof-e-ruswaai se main ne khat jala daala magar
jaane kyun us chaand se lab ka nishaan rahne diya

dosti ko apni majboori nahin samjha kabhi
fasla main ne barabar darmiyaan rahne diya

be-gunaahi ki safaai de bhi saka tha magar
kuchh samajh kar main ne us ko bad-gumaan rahne diya

aag ke baazigaaron ne ab ke khel aisa khela
shehar ki taqdeer mein khaali dhuaan rahne diya

kya siyaasi chaal hai ye zaalimaan-e-waqt ki
le liya sab kuchh magar ik khawf-e-jaan rahne diya

chaunk chaunk uthata hoon main raaton ko ibarat khauf se
khwaab us ne meri aankhon mein kahaan rahne diya

अपने एहसानों का नीला साएबाँ रहने दिया
छीन ली छत और सर पर आसमाँ रहने दिया

आज उस की बे-ज़बानी ने मुझे समझा दिया
किस लिए फ़ितरत ने गुल को बे-ज़बाँ रहने दिया

ज़िंदगी तो क्या असासा तक नहीं बाक़ी बचा
क़ातिलों ने अब के बस ख़ाली मकाँ रहने दिया

ख़ौफ़-ए-रुस्वाई से मैं ने ख़त जला डाला मगर
जाने क्यूँ उस चाँद से लब का निशाँ रहने दिया

दोस्ती को अपनी मजबूरी नहीं समझा कभी
फ़ासला मैं ने बराबर दरमियाँ रहने दिया

बे-गुनाही की सफ़ाई दे भी सकता था मगर
कुछ समझ कर मैं ने उस को बद-गुमाँ रहने दिया

आग के बाज़ीगरों ने अब के खेल ऐसा खेला
शहर की तक़दीर में ख़ाली धुआँ रहने दिया

क्या सियासी चाल है ये ज़ालिमान-ए-वक़्त की
ले लिया सब कुछ मगर इक ख़ौफ़-ए-जाँ रहने दिया

चौंक चौंक उठता हूँ मैं रातों को 'इबरत' ख़ौफ़ से
ख़्वाब उस ने मेरी आँखों में कहाँ रहने दिया

- Ibrat Machlishahri
0 Likes

Chaand Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ibrat Machlishahri

As you were reading Shayari by Ibrat Machlishahri

Similar Writers

our suggestion based on Ibrat Machlishahri

Similar Moods

As you were reading Chaand Shayari Shayari