ek din khwaab-nagar jaana hai | एक दिन ख़्वाब-नगर जाना है - Idris Babar

ek din khwaab-nagar jaana hai
aur yoonhi khaak-basar jaana hai

umr bhar ki ye jo hai be-khwabi
ye usi khwaab ka harjaana hai

ghar se kis waqt chale the ham log
khair ab kaun sa ghar jaana hai

maut ki pehli alaamat saahib
yahi ehsaas ka mar jaana hai

kisi taqreeb-e-judai ke baghair
theek hai jaao agar jaana hai

shor ki dhool mein gum galiyon se
dil ko chup-chaap guzar jaana hai

एक दिन ख़्वाब-नगर जाना है
और यूँही ख़ाक-बसर जाना है

उम्र भर की ये जो है बे-ख़्वाबी
ये उसी ख़्वाब का हर्जाना है

घर से किस वक़्त चले थे हम लोग
ख़ैर अब कौन सा घर जाना है

मौत की पहली अलामत साहिब
यही एहसास का मर जाना है

किसी तक़रीब-ए-जुदाई के बग़ैर
ठीक है जाओ अगर जाना है

शोर की धूल में गुम गलियों से
दिल को चुप-चाप गुज़र जाना है

- Idris Babar
1 Like

Fantasy Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Idris Babar

As you were reading Shayari by Idris Babar

Similar Writers

our suggestion based on Idris Babar

Similar Moods

As you were reading Fantasy Shayari Shayari