tiri gali se guzarne ko sar jhukaaye hue | तिरी गली से गुज़रने को सर झुकाए हुए - Idris Babar

tiri gali se guzarne ko sar jhukaaye hue
faqeer hujra-e-haft-aasman uthaaye hue

koi darakht saraaye ki jis mein ja baitheen
parinde apni pareshaaniyaan bhulaaye hue

mere sawaal wahi toot-foot ki zad mein
jawaab un ke wahi hain bane-banaaye hue

hamein jo dekhte the jin ko dekhte the ham
vo khwaab khaak hue aur vo log saaye hue

shikaariyon se mere ehtijaaj mein babar
darakht aaj bhi shaamil the haath uthaaye hue

तिरी गली से गुज़रने को सर झुकाए हुए
फ़क़ीर हुजरा-ए-हफ़्त-आसमाँ उठाए हुए

कोई दरख़्त सराए कि जिस में जा बैठें
परिंदे अपनी परेशानियाँ भुलाए हुए

मिरे सवाल वही टूट-फूट की ज़द में
जवाब उन के वही हैं बने-बनाए हुए

हमें जो देखते थे जिन को देखते थे हम
वो ख़्वाब ख़ाक हुए और वो लोग साए हुए

शिकारियों से मिरे एहतिजाज में 'बाबर'
दरख़्त आज भी शामिल थे हाथ उठाए हुए

- Idris Babar
1 Like

Gareebi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Idris Babar

As you were reading Shayari by Idris Babar

Similar Writers

our suggestion based on Idris Babar

Similar Moods

As you were reading Gareebi Shayari Shayari