mashhoor to bas ek diya hai mere dil mein | मशहूर तो बस एक दिया है मिरे दिल में - Idris Babar

mashhoor to bas ek diya hai mere dil mein
kitne hi sitaaron ki jagah hai mere dil mein

tum ne to hikaayat hi sun rakhi hain warna
vo shehar vo kheme vo sira hai mere dil mein

main raah se bhatkoon to khatkati hai koi baat
jis tarah koi samt-numa hai mere dil mein

duniya se guzarne ko abhi umr padi hai
ye khwaab to kuchh din ko ruka hai mere dil mein

ye ghar dar-o-deewar ki had tak hai salaamat
lekin vo jo ghar toot gaya hai mere dil mein

ye log zara der ko tal jaayen to babar
main dekh luun kya waqt hua hai mere dil mein

मशहूर तो बस एक दिया है मिरे दिल में
कितने ही सितारों की जगह है मिरे दिल में

तुम ने तो हिकायात ही सुन रक्खी हैं वर्ना
वो शहर वो खे़मे वो सिरा है मिरे दिल में

मैं राह से भटकूँ तो खटकती है कोई बात
जिस तरह कोई सम्त-नुमा है मिरे दिल में

दुनिया से गुज़रने को अभी उम्र पड़ी है
ये ख़्वाब तो कुछ दिन को रुका है मिरे दिल में

ये घर दर-ओ-दीवार की हद तक है सलामत
लेकिन वो जो घर टूट गया है मिरे दिल में

ये लोग ज़रा देर को टल जाएँ तो 'बाबर'
मैं देख लूँ क्या वक़्त हुआ है मिरे दिल में

- Idris Babar
0 Likes

Shehar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Idris Babar

As you were reading Shayari by Idris Babar

Similar Writers

our suggestion based on Idris Babar

Similar Moods

As you were reading Shehar Shayari Shayari