fazaa mein vahshat-e-sang-o-sinaan ke hote hue | फ़ज़ा में वहशत-ए-संग-ओ-सिनाँ के होते हुए - Iftikhar Arif

fazaa mein vahshat-e-sang-o-sinaan ke hote hue
qalam hai raqs mein aashob-e-jaan ke hote hue

humeen mein rahte hain vo log bhi ki jin ke sabab
zameen buland hui aasmaan ke hote hue

b-zid hai dil ki naye raaste nikale jaayen
nishaan-e-rah-guzar-e-raftagaan ke hote hue

jahaan-e-khair mein ik hujra-e-qana'at-o-sabr
khuda kare ki rahe jism o jaan ke hote hue

qadam qadam pe dil-e-khush-gumaan ne khaai maat
ravish ravish nigah-e-mehrbaan ke hote hue

main ek silsila-e-aatishi mein bai'at tha
so khaak ho gaya naam-o-nishaan ke hote hue

main chup raha ki wazaahat se baat badh jaati
hazaar shewa-e-husn-e-bayaan ke hote hue

uljh rahi thi hawaon se ek kashti-e-harf
padi hai ret pe aab-e-ravaan ke hote hue

bas ek khwaab ki soorat kahi hai ghar mera
makaan ke hote hue la-makaan ke hote hue

dua ko haath uthaate hue larzata hoon
kabhi dua nahin maangi thi maa ke hote hue

फ़ज़ा में वहशत-ए-संग-ओ-सिनाँ के होते हुए
क़लम है रक़्स में आशोब-ए-जाँ के होते हुए

हमीं में रहते हैं वो लोग भी कि जिन के सबब
ज़मीं बुलंद हुई आसमाँ के होते हुए

ब-ज़िद है दिल कि नए रास्ते निकाले जाएँ
निशान-ए-रह-गुज़र-ए-रफ़्तगाँ के होते हुए

जहान-ए-ख़ैर में इक हुजरा-ए-क़नाअत-ओ-सब्र
ख़ुदा करे कि रहे जिस्म ओ जाँ के होते हुए

क़दम क़दम पे दिल-ए-ख़ुश-गुमाँ ने खाई मात
रविश रविश निगह-ए-मेहरबाँ के होते हुए

मैं एक सिलसिला-ए-आतिशीं में बैअत था
सो ख़ाक हो गया नाम-ओ-निशाँ के होते हुए

मैं चुप रहा कि वज़ाहत से बात बढ़ जाती
हज़ार शेवा-ए-हुस्न-ए-बयाँ के होते हुए

उलझ रही थी हवाओं से एक कश्ती-ए-हर्फ़
पड़ी है रेत पे आब-ए-रवाँ के होते हुए

बस एक ख़्वाब की सूरत कहीं है घर मेरा
मकाँ के होते हुए ला-मकाँ के होते हुए

दुआ को हात उठाते हुए लरज़ता हूँ
कभी दुआ नहीं माँगी थी माँ के होते हुए

- Iftikhar Arif
0 Likes

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari