jaisa hoon waisa kyun hoon samjha saka tha main | जैसा हूँ वैसा क्यूँ हूँ समझा सकता था मैं - Iftikhar Arif

jaisa hoon waisa kyun hoon samjha saka tha main
tum ne poocha to hota batla saka tha main

aasooda rahne ki khwaahish maar gai warna
aage aur bahut aage tak ja saka tha main

chhoti-moti ek lehar hi thi mere andar
ek lehar se kya toofaan utha saka tha main

kahi kahi se kuchh misre ek-aadh ghazal kuchh sher
is pounji par kitna shor macha saka tha main

jaise sab likhte rahte hain ghazlein nazmein geet
vaise likh likh kar ambaar laga saka tha main

जैसा हूँ वैसा क्यूँ हूँ समझा सकता था मैं
तुम ने पूछा तो होता बतला सकता था मैं

आसूदा रहने की ख़्वाहिश मार गई वर्ना
आगे और बहुत आगे तक जा सकता था मैं

छोटी-मोटी एक लहर ही थी मेरे अंदर
एक लहर से क्या तूफ़ान उठा सकता था मैं

कहीं कहीं से कुछ मिसरे एक-आध ग़ज़ल कुछ शेर
इस पूँजी पर कितना शोर मचा सकता था मैं

जैसे सब लिखते रहते हैं ग़ज़लें नज़्में गीत
वैसे लिख लिख कर अम्बार लगा सकता था मैं

- Iftikhar Arif
0 Likes

Aahat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Aahat Shayari Shayari