koi muzda na basharat na dua chahti hai | कोई मुज़्दा न बशारत न दुआ चाहती है - Iftikhar Arif

koi muzda na basharat na dua chahti hai
roz ik taaza khabar khalk-e-khuda chahti hai

mauj-e-khoon sar se guzarni thi so vo bhi guzri
aur kya koocha-e-qaatil ki hawa chahti hai

shahr-e-be-mehr mein lab-basta ghulaamon ki qataar
naye aain-e-aseeri ki bina chahti hai

koi bole ke na bole qadam utthen na uthe
vo jo ik dil mein hai deewaar utha chahti hai

ham bhi labbaik kahein aur fasana ban jaayen
koi awaaz sar-e-koh-e-nidaa chahti hai

yahi lau thi ki uljhti rahi har raat ke saath
ab ke khud apni hawaon mein bujha chahti hai

ahad-e-aasoodagi-e-jaan mein bhi tha jaan se aziz
vo qalam bhi mere dushman ki ana chahti hai

bahr-e-paamali-e-gul aayi hai aur mauj-e-khizaan
guftugoo mein ravish-e-baad-e-saba chahti hai

khaak ko hum-sar-e-mehtaab kiya raat ki raat
khalk ab bhi wahi naqsh-e-kaf-e-paa chahti hai

कोई मुज़्दा न बशारत न दुआ चाहती है
रोज़ इक ताज़ा ख़बर ख़ल्क़-ए-ख़ुदा चाहती है

मौज-ए-ख़ूँ सर से गुज़रनी थी सो वो भी गुज़री
और क्या कूचा-ए-क़ातिल की हवा चाहती है

शहर-ए-बे-मेहर में लब-बस्ता ग़ुलामों की क़तार
नए आईन-ए-असीरी की बिना चाहती है

कोई बोले के न बोले क़दम उट्ठें न उठें
वो जो इक दिल में है दीवार उठा चाहती है

हम भी लब्बैक कहें और फ़साना बन जाएँ
कोई आवाज़ सर-ए-कोह-ए-निदा चाहती है

यही लौ थी कि उलझती रही हर रात के साथ
अब के ख़ुद अपनी हवाओं में बुझा चाहती है

अहद-ए-आसूदगी-ए-जाँ में भी था जाँ से अज़ीज़
वो क़लम भी मिरे दुश्मन की अना चाहती है

बहर-ए-पामाली-ए-गुल आई है और मौज-ए-ख़िज़ाँ
गुफ़्तुगू में रविश-ए-बाद-ए-सबा चाहती है

ख़ाक को हम-सर-ए-महताब किया रात की रात
ख़ल्क़ अब भी वही नक़्श-ए-कफ़-ए-पा चाहती है

- Iftikhar Arif
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari