mera maalik jab taufeeq arzaani karta hai | मेरा मालिक जब तौफ़ीक़ अर्ज़ानी करता है - Iftikhar Arif

mera maalik jab taufeeq arzaani karta hai
gehre zard zameen ki rangat dhaani karta hai

bujhte hue diye ki lau aur bheegi aankh ke beech
koi to hai jo khwaabon ki nigraani karta hai

maalik se aur mitti se aur maa se baagi shakhs
dard ke har meesaq se ru-gardaani karta hai

yaadon se aur khwaabon se aur ummeedon se rabt
ho jaaye to jeene mein aasaani karta hai

kya jaane kab kis saaat mein taba ravaan ho jaaye
ye dariya be-mausam bhi tughyaani karta hai

dil paagal hai roz nayi nadaani karta hai
aag mein aag milaata hai phir paani karta hai

मेरा मालिक जब तौफ़ीक़ अर्ज़ानी करता है
गहरे ज़र्द ज़मीन की रंगत धानी करता है

बुझते हुए दिए की लौ और भीगी आँख के बीच
कोई तो है जो ख़्वाबों की निगरानी करता है

मालिक से और मिट्टी से और माँ से बाग़ी शख़्स
दर्द के हर मीसाक़ से रु-गर्दानी करता है

यादों से और ख़्वाबों से और उम्मीदों से रब्त
हो जाए तो जीने में आसानी करता है

क्या जाने कब किस साअत में तब्अ' रवाँ हो जाए
ये दरिया बे-मौसम भी तुग़्यानी करता है

दिल पागल है रोज़ नई नादानी करता है
आग में आग मिलाता है फिर पानी करता है

- Iftikhar Arif
0 Likes

Dard Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Dard Shayari Shayari