dil ko har lamha bachaate rahe jazbaat se ham | दिल को हर लम्हा बचाते रहे जज़्बात से हम - Jaan Nisar Akhtar

dil ko har lamha bachaate rahe jazbaat se ham
itne majboor rahe hain kabhi haalaat se ham

nashsha-e-may se kahi pyaas bujhi hai dil ki
tishnagi aur badha laaye kharaajaat se ham

aaj to mil ke bhi jaise na mile hon tujh se
chaunk uthte the kabhi teri mulaqaat se ham

ishq mein aaj bhi hai neem-nigaahi ka chalan
pyaar karte hain usi husn-e-rivaayat se ham

markaz-e-deeda-e-khubaan-e-jahaan hain bhi to kya
ek nisbat bhi to rakhte hain tiri zaat se ham

दिल को हर लम्हा बचाते रहे जज़्बात से हम
इतने मजबूर रहे हैं कभी हालात से हम

नश्शा-ए-मय से कहीं प्यास बुझी है दिल की
तिश्नगी और बढ़ा लाए ख़राजात से हम

आज तो मिल के भी जैसे न मिले हों तुझ से
चौंक उठते थे कभी तेरी मुलाक़ात से हम

इश्क़ में आज भी है नीम-निगाही का चलन
प्यार करते हैं उसी हुस्न-ए-रिवायात से हम

मर्कज़-ए-दीदा-ए-ख़ुबान-ए-जहाँ हैं भी तो क्या
एक निस्बत भी तो रखते हैं तिरी ज़ात से हम

- Jaan Nisar Akhtar
0 Likes

Love Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading Love Shayari Shayari