maana ki rang rang tira pairhan bhi hai | माना कि रंग रंग तिरा पैरहन भी है - Jaan Nisar Akhtar

maana ki rang rang tira pairhan bhi hai
par is mein kuchh karishma-e-aks-e-badan bhi hai

aql-e-ma'aash o hikmat-e-duniya ke baawajood
ham ko aziz ishq ka deewana-pan bhi hai

mutarib bhi tu nadeem bhi tu saaqiya bhi tu
tu jaan-e-anjuman hi nahin anjuman bhi hai

baazu chhua jo tu ne to us din khula ye raaz
tu sirf rang-o-boo hi nahin hai badan bhi hai

ye daur kis tarah se katega pahaad sa
yaaro batao ham mein koi kohkan bhi hai

माना कि रंग रंग तिरा पैरहन भी है
पर इस में कुछ करिश्मा-ए-अक्स-ए-बदन भी है

अक़्ल-ए-मआश ओ हिकमत-ए-दुनिया के बावजूद
हम को अज़ीज़ इश्क़ का दीवाना-पन भी है

मुतरिब भी तू नदीम भी तू साक़िया भी तू
तू जान-ए-अंजुमन ही नहीं अंजुमन भी है

बाज़ू छुआ जो तू ने तो उस दिन खुला ये राज़
तू सिर्फ़ रंग-ओ-बू ही नहीं है बदन भी है

ये दौर किस तरह से कटेगा पहाड़ सा
यारो बताओ हम में कोई कोहकन भी है

- Jaan Nisar Akhtar
0 Likes

Mehfil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading Mehfil Shayari Shayari