tamaam umr azaabon ka silsila to raha | तमाम उम्र अज़ाबों का सिलसिला तो रहा - Jaan Nisar Akhtar

tamaam umr azaabon ka silsila to raha
ye kam nahin hamein jeene ka hausla to raha

guzar hi aaye kisi tarah tere deewane
qadam qadam pe koi sakht marhala to raha

chalo na ishq hi jeeta na aql haar saki
tamaam waqt maze ka muqaabla to raha

main teri zaat mein gum ho saka na tu mujh mein
bahut qareeb the ham phir bhi fasla to raha

ye aur baat ki har chhed la-ubaali thi
tiri nazar ka dilon se moamala to raha

तमाम उम्र अज़ाबों का सिलसिला तो रहा
ये कम नहीं हमें जीने का हौसला तो रहा

गुज़र ही आए किसी तरह तेरे दीवाने
क़दम क़दम पे कोई सख़्त मरहला तो रहा

चलो न इश्क़ ही जीता न अक़्ल हार सकी
तमाम वक़्त मज़े का मुक़ाबला तो रहा

मैं तेरी ज़ात में गुम हो सका न तू मुझ में
बहुत क़रीब थे हम फिर भी फ़ासला तो रहा

ये और बात कि हर छेड़ ला-उबाली थी
तिरी नज़र का दिलों से मोआमला तो रहा

- Jaan Nisar Akhtar
1 Like

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari