be-dili kya yoonhi din guzar jaayenge | बे-दिली क्या यूँही दिन गुज़र जाएँगे - Jaun Elia

be-dili kya yoonhi din guzar jaayenge
sirf zinda rahe ham to mar jaayenge

raqs hai rang par rang ham-raks hain
sab bichhad jaayenge sab bikhar jaayenge

ye kharabatiyaan-e-khird-baakhta
subah hote hi sab kaam par jaayenge

kitni dilkash ho tum kitna dil-joo hoon main
kya sitam hai ki ham log mar jaayenge

hai ghaneemat ki asraar-e-hasti se ham
be-khabar aaye hain be-khabar jaayenge

बे-दिली क्या यूँही दिन गुज़र जाएँगे
सिर्फ़ ज़िंदा रहे हम तो मर जाएँगे

रक़्स है रंग पर रंग हम-रक़्स हैं
सब बिछड़ जाएँगे सब बिखर जाएँगे

ये ख़राबातियान-ए-ख़िरद-बाख़्ता
सुब्ह होते ही सब काम पर जाएँगे

कितनी दिलकश हो तुम कितना दिल-जू हूँ मैं
क्या सितम है कि हम लोग मर जाएँगे

है ग़नीमत कि असरार-ए-हस्ती से हम
बे-ख़बर आए हैं बे-ख़बर जाएँगे

- Jaun Elia
11 Likes

Zulm Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaun Elia

As you were reading Shayari by Jaun Elia

Similar Writers

our suggestion based on Jaun Elia

Similar Moods

As you were reading Zulm Shayari Shayari