gahe gahe bas ab yahi ho kya | गाहे गाहे बस अब यही हो क्या - Jaun Elia

gahe gahe bas ab yahi ho kya
tum se mil kar bahut khushi ho kya

mil rahi ho bade tapaak ke saath
mujh ko yaksar bhula chuki ho kya

yaad hain ab bhi apne khwaab tumhein
mujh se mil kar udaas bhi ho kya

bas mujhe yoonhi ik khayal aaya
sochti ho to sochti ho kya

ab meri koi zindagi hi nahin
ab bhi tum meri zindagi ho kya

kya kaha ishq jaavedaani hai
aakhiri baar mil rahi ho kya

haan fazaa yaa ki soi soi si hai
to bahut tez raushni ho kya

mere sab tanj be-asar hi rahe
tum bahut door ja chuki ho kya

dil mein ab soz-e-intizaar nahin
sham-e-ummeed bujh gai ho kya

is samundar pe tishna-kaam hoon main
baan tum ab bhi bah rahi ho kya

गाहे गाहे बस अब यही हो क्या
तुम से मिल कर बहुत ख़ुशी हो क्या

मिल रही हो बड़े तपाक के साथ
मुझ को यकसर भुला चुकी हो क्या

याद हैं अब भी अपने ख़्वाब तुम्हें
मुझ से मिल कर उदास भी हो क्या

बस मुझे यूँही इक ख़याल आया
सोचती हो तो सोचती हो क्या

अब मिरी कोई ज़िंदगी ही नहीं
अब भी तुम मेरी ज़िंदगी हो क्या

क्या कहा इश्क़ जावेदानी है!
आख़िरी बार मिल रही हो क्या

हाँ फ़ज़ा याँ की सोई सोई सी है
तो बहुत तेज़ रौशनी हो क्या

मेरे सब तंज़ बे-असर ही रहे
तुम बहुत दूर जा चुकी हो क्या

दिल में अब सोज़-ए-इंतिज़ार नहीं
शम-ए-उम्मीद बुझ गई हो क्या

इस समुंदर पे तिश्ना-काम हूँ मैं
बान तुम अब भी बह रही हो क्या

- Jaun Elia
33 Likes

Khushi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaun Elia

As you were reading Shayari by Jaun Elia

Similar Writers

our suggestion based on Jaun Elia

Similar Moods

As you were reading Khushi Shayari Shayari