kis se izhaar-e-muddaa kijeye | किस से इज़हार-ए-मुद्दआ कीजे - Jaun Elia

kis se izhaar-e-muddaa kijeye
aap milte nahin hain kya kijeye

ho na paaya ye faisla ab tak
aap kijeye to kya kiya kijeye

aap the jis ke chaara-gar vo jawaan
sakht beemaar hai dua kijeye

ek hi fan to hum ne seekha hai
jis se miliye use khafa kijeye

hai taqaza meri tabi'at ka
har kisi ko charaagh-paa kijeye

hai to baare ye aalam-e-asbaab
be-sabab cheekhne laga kijeye

aaj hum kya gila karein us se
gila-e-tangi-e-qaba kijeye

nutq haiwaan par garaan hai abhi
guftugoo kam se kam kiya kijeye

hazrat-e-zulf-e-ghaliya-afshaan
naam apna saba saba kijeye

zindagi ka ajab mo'amla hai
ek lamhe mein faisla kijeye

mujh ko aadat hai rooth jaane ki
aap mujh ko manaa liya kijeye

milte rahiye isee tapaak ke saath
bewafaai ki intiha kijeye

kohkan ko hai khud-kushi khwaahish
shah-bano se iltijaa kijeye

mujh se kahti theen vo sharaab aankhen
aap vo zahar mat piya kijeye

rang har rang mein hai daad-talab
khoon thookoon to waah-wa kijeye

किस से इज़हार-ए-मुद्दआ कीजे
आप मिलते नहीं हैं क्या कीजे

हो न पाया ये फ़ैसला अब तक
आप कीजे तो क्या किया कीजे

आप थे जिस के चारा-गर वो जवाँ
सख़्त बीमार है दुआ कीजे

एक ही फ़न तो हम ने सीखा है
जिस से मिलिए उसे ख़फ़ा कीजे

है तक़ाज़ा मिरी तबीअ'त का
हर किसी को चराग़-पा कीजे

है तो बारे ये आलम-ए-असबाब
बे-सबब चीख़ने लगा कीजे

आज हम क्या गिला करें उस से
गिला-ए-तंगी-ए-क़बा कीजे

नुत्क़ हैवान पर गराँ है अभी
गुफ़्तुगू कम से कम किया कीजे

हज़रत-ए-ज़ुल्फ़-ए-ग़ालिया-अफ़्शाँ
नाम अपना सबा सबा कीजे

ज़िंदगी का अजब मोआ'मला है
एक लम्हे में फ़ैसला कीजे

मुझ को आदत है रूठ जाने की
आप मुझ को मना लिया कीजे

मिलते रहिए इसी तपाक के साथ
बेवफ़ाई की इंतिहा कीजे

कोहकन को है ख़ुद-कुशी ख़्वाहिश
शाह-बानो से इल्तिजा कीजे

मुझ से कहती थीं वो शराब आँखें
आप वो ज़हर मत पिया कीजे

रंग हर रंग में है दाद-तलब
ख़ून थूकूँ तो वाह-वा कीजे

- Jaun Elia
23 Likes

Jahar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaun Elia

As you were reading Shayari by Jaun Elia

Similar Writers

our suggestion based on Jaun Elia

Similar Moods

As you were reading Jahar Shayari Shayari