aankhon ka tha qusoor na dil ka qusoor tha | आँखों का था क़ुसूर न दिल का क़ुसूर था - Jigar Moradabadi

aankhon ka tha qusoor na dil ka qusoor tha
aaya jo mere saamne mera ghuroor tha

tareek misl-e-aah jo aankhon ka noor tha
kya subh hi se shaam-e-bala ka zuhoor tha

vo the na mujh se door na main un se door tha
aata na tha nazar to nazar ka qusoor tha

har waqt ik khumaar tha har dam suroor tha
bottle baghal mein thi ki dil-e-na-suboor tha

koi to dardmand-e-dil-e-na-suboor tha
maana ki tum na the koi tum sa zaroor tha

lagte hi thes toot gaya saaz-e-aarzoo
milte hi aankh sheesha-e-dil choor choor tha

aisa kahaan bahaar mein rangeeniyon ka josh
shaamil kisi ka khoon-e-tamanna zaroor tha

saaqi ki chashm-e-mast ka kya kijie bayaan
itna suroor tha ki mujhe bhi suroor tha

paltee jo raaste hi se ai aah-e-na-muraad
ye to bata ki baab-e-asar kitni door tha

jis dil ko tum ne lutf se apna bana liya
us dil mein ik chhupa hua nashtar zaroor tha

us chashm-e-may-farosh se koi na bach saka
sab ko b-qadar-e-hausla-e-dil suroor tha

dekha tha kal jigar ko sar-e-raah-e-may-kada
is darja pee gaya tha ki nashshe mein choor tha

आँखों का था क़ुसूर न दिल का क़ुसूर था
आया जो मेरे सामने मेरा ग़ुरूर था

तारीक मिस्ल-ए-आह जो आँखों का नूर था
क्या सुब्ह ही से शाम-ए-बला का ज़ुहूर था

वो थे न मुझ से दूर न मैं उन से दूर था
आता न था नज़र तो नज़र का क़ुसूर था

हर वक़्त इक ख़ुमार था हर दम सुरूर था
बोतल बग़ल में थी कि दिल-ए-ना-सुबूर था

कोई तो दर्दमंद-ए-दिल-ए-ना-सुबूर था
माना कि तुम न थे कोई तुम सा ज़रूर था

लगते ही ठेस टूट गया साज़-ए-आरज़ू
मिलते ही आँख शीशा-ए-दिल चूर चूर था

ऐसा कहाँ बहार में रंगीनियों का जोश
शामिल किसी का ख़ून-ए-तमन्ना ज़रूर था

साक़ी की चश्म-ए-मस्त का क्या कीजिए बयान
इतना सुरूर था कि मुझे भी सुरूर था

पलटी जो रास्ते ही से ऐ आह-ए-ना-मुराद
ये तो बता कि बाब-ए-असर कितनी दूर था

जिस दिल को तुम ने लुत्फ़ से अपना बना लिया
उस दिल में इक छुपा हुआ नश्तर ज़रूर था

उस चश्म-ए-मय-फ़रोश से कोई न बच सका
सब को ब-क़दर-ए-हौसला-ए-दिल सुरूर था

देखा था कल 'जिगर' को सर-ए-राह-ए-मय-कदा
इस दर्जा पी गया था कि नश्शे में चूर था

- Jigar Moradabadi
1 Like

Motivational Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jigar Moradabadi

As you were reading Shayari by Jigar Moradabadi

Similar Writers

our suggestion based on Jigar Moradabadi

Similar Moods

As you were reading Motivational Shayari Shayari