ye sitam ki mehfil-e-naaz hai kaleem is ko aur sajaaye ja | ये सितम की महफ़िल-ए-नाज़ है 'कलीम' इस को और सजाए जा - Kaleem Aajiz

ye sitam ki mehfil-e-naaz hai kaleem is ko aur sajaaye ja
vo dikhaayein raqs-e-sitmigari tu ghazal ka saaz bajaae ja

jo akad ke shaan se jaaye hai pyaar se ye bataaye ja
ki bulandiyon ki hai aarzoo tu dilon mein pehle samaaye ja

vo jo zakham den so qubool hai tire vaaste wahi phool hai
yahi ahl-e-dil ka usool hai vo rulaaye jaayen tu gaaye ja

tira seedha sa vo bayaan hai tiri tooti-footi zabaan hai
tire paas hain yahi thekre tu mahal inheen se banaaye ja

vo jafaa-shi'aar o sitam-ada tu sukhan-taraaz o ghazal-sara
vo tamaam kaante ugaayenge tu tamaam phool khilaaye ja

koi laakh zohra-jabeen hai jise chahein ham vo haseen hai
kaleem us saraapa ghuroor ko zara aaina to dikhaaye ja

ये सितम की महफ़िल-ए-नाज़ है 'कलीम' इस को और सजाए जा
वो दिखाएँ रक़्स-ए-सितमगरी तू ग़ज़ल का साज़ बजाए जा

जो अकड़ के शान से जाए है प्यार से ये बताए जा
कि बुलंदियों की है आरज़ू तू दिलों में पहले समाए जा

वो जो ज़ख़्म दें सो क़ुबूल है तिरे वास्ते वही फूल है
यही अहल-ए-दिल का उसूल है वो रुलाए जाएँ तू गाए जा

तिरा सीधा सा वो बयान है तिरी टूटी-फूटी ज़बान है
तिरे पास हैं यही ठेकरे तू महल इन्हीं से बनाए जा

वो जफ़ा-शिआ'र ओ सितम-अदा तू सुख़न-तराज़ ओ ग़ज़ल-सरा
वो तमाम काँटे उगाएँगे तू तमाम फूल खिलाए जा

कोई लाख ज़ोहरा-जबीन है जिसे चाहें हम वो हसीन है
'कलीम' उस सरापा ग़ुरूर को ज़रा आइना तो दिखाए जा

- Kaleem Aajiz
0 Likes

Dua Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaleem Aajiz

As you were reading Shayari by Kaleem Aajiz

Similar Writers

our suggestion based on Kaleem Aajiz

Similar Moods

As you were reading Dua Shayari Shayari