zindagi maail-e-fariyaad-o-fughaan aaj bhi hai | ज़िंदगी माइल-ए-फ़रियाद-ओ-फ़ुग़ाँ आज भी है - Kaleem Aajiz

zindagi maail-e-fariyaad-o-fughaan aaj bhi hai
kal bhi tha seene pe ik sang-e-giraan aaj bhi hai

dil-e-afsurda ko pahluu mein liye baithe hain
bazm mein majma-e-khasta-jigaraan aaj bhi hai

talkhi-e-koh-kani kal bhi mera hissa tha
jaam-e-sheereen b-naseeb-e-deegaraan aaj bhi hai

zakhm-e-dil ke nahin aasaar b-zaahir lekin
chaara-gar se gala-e-dard-e-nihaan aaj bhi hai

aaj bhi garm hai bazaar jafaa-kaaron ka
kal bhi aaraasta thi un ki dukaaan aaj bhi hai

gosha-e-amn nahin aaj bhi bulbul ko naseeb
chashm-e-sayyaad bahr-soo nigaraan aaj bhi hai

aaj bhi zakhm-e-rag-e-gul se tapkata hai lahu
khun mein doobi hui kaanton ki zabaan aaj bhi hai

zindagi chaunk ke bedaar hui hai lekin
chashm-o-dil par asar-e-khwab-e-giraan aaj bhi hai

is taraf jins-e-wafa ki wahi arzaani hai
us taraf ik nigaah-e-lutf-e-giraan aaj bhi hai

haif kyun qismat-e-shaayer pe na aaye aajiz
kal bhi kam-bakht raha marsiyaan-khwaan aaj bhi hai

ज़िंदगी माइल-ए-फ़रियाद-ओ-फ़ुग़ाँ आज भी है
कल भी था सीने पे इक संग-ए-गिराँ आज भी है

दिल-ए-अफ़सुर्दा को पहलू में लिए बैठे हैं
बज़्म में मजमा-ए-ख़स्ता-जिगराँ आज भी है

तल्ख़ी-ए-कोह-कनी कल भी मिरा हिस्सा था
जाम-ए-शीरीं ब-नसीब-ए-दीगराँ आज भी है

ज़ख़्म-ए-दिल के नहीं आसार ब-ज़ाहिर लेकिन
चारा-गर से गला-ए-दर्द-ए-निहाँ आज भी है

आज भी गर्म है बाज़ार जफ़ा-कारों का
कल भी आरास्ता थी उन की दुकाँ आज भी है

गोशा-ए-अम्न नहीं आज भी बुलबुल को नसीब
चश्म-ए-सय्याद बहर-सू निगराँ आज भी है

आज भी ज़ख़्म-ए-रग-ए-गुल से टपकता है लहू
ख़ूँ में डूबी हुई काँटों की ज़बाँ आज भी है

ज़िंदगी चौंक के बेदार हुई है लेकिन
चश्म-ओ-दिल पर असर-ए-ख़्वाब-ए-गिराँ आज भी है

इस तरफ़ जिंस-ए-वफ़ा की वही अर्ज़ानी है
उस तरफ़ इक निगह-ए-लुत्फ़-ए-गिराँ आज भी है

हैफ़ क्यूँ क़िस्मत-ए-शाएर पे न आए 'आजिज़'
कल भी कम-बख़्त रहा मर्सियाँ-ख़्वाँ आज भी है

- Kaleem Aajiz
1 Like

Partition Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaleem Aajiz

As you were reading Shayari by Kaleem Aajiz

Similar Writers

our suggestion based on Kaleem Aajiz

Similar Moods

As you were reading Partition Shayari Shayari