udne ki tadbeer mein uljhe rahte hain | उड़ने की तदबीर में उल्झे रहते हैं - Kashif Adeeb Makanpuri

udne ki tadbeer mein uljhe rahte hain
qaid mein hain zanjeer mein uljhe rahte hain

bas teri yaadein hain sarmaaya apna
ham apni jaageer mein uljhe rahte hain

suraj se kuchh seekh nahin lete hain log
taaron ki tanveer mein uljhe rahte hain

duniya ke rangeen manaazir kya dekhen
ham teri tasveer mein uljhe rahte hain

kuchh ban jaate hain taarikh zamaane ki
kuchh apni tahreer mein uljhe rahte hain

pyaar kiya hamne to ye maaloom hua
kyun sab raanjha heer mein uljhe rahte hain

badnaseebi ki takmeel se kya matlab hamko
badnaseebi ki taabeer mein uljhe rahte hain

qaum ne apni jinko zimmedaari di
vo apni tashheer mein uljhe rahte hain

lafzon se kya matlab hamko ai kaashif
lehje ki taaseer mein uljhe rahte hain

उड़ने की तदबीर में उल्झे रहते हैं
क़ैद में हैं ज़ंजीर में उल्झे रहते हैं

बस तेरी यादें हैं सरमाया अपना
हम अपनी जागीर में उल्झे रहते हैं

सूरज से कुछ सीख नहीं लेते हैं लोग
तारों की तनवीर में उल्झे रहते हैं

दुनिया के रंगीन मनाज़िर क्या देखें
हम तेरी तस्वीर में उल्झे रहते हैं

कुछ बन जाते हैं तारीख़ ज़माने की
कुछ अपनी तहरीर में उल्झे रहते हैं

प्यार किया हमने तो ये मालूम हुआ
क्यूँ सब रांझा हीर में उल्झे रहते हैं

ख़्वाबों की तकमील से क्या मतलब हमको
ख़्वाबों की ताबीर में उल्झे रहते हैं

क़ौम ने अपनी जिनको ज़िम्मेदारी दी
वो अपनी तशहीर में उल्झे रहते हैं

लफ़्ज़ों से क्या मतलब हमको ऐ काशिफ़
लहजे की तासीर में उल्झे रहते हैं

- Kashif Adeeb Makanpuri
1 Like

Love Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kashif Adeeb Makanpuri

As you were reading Shayari by Kashif Adeeb Makanpuri

Similar Writers

our suggestion based on Kashif Adeeb Makanpuri

Similar Moods

As you were reading Love Shayari Shayari