fasla jab darmiyaan mein apne apne rah gaya | फ़ासला जब दरमियां में अपने अपने रह गया - Kashif Adeeb Makanpuri

fasla jab darmiyaan mein apne apne rah gaya
haaye phir mera muqaddar bante bante rah gaya

doobne lagta hai suraj ki tarah har aadmi
khud numaai ka ye jazba jaise taise rah gaya

umr bhar mujhko pareeshaan ab karega ye sawaal
kuchh to tha jo uske lab par aate aate rah gaya

usse milna tha yaqeenan bandishon ko todakar
ain mumkin tha ye hona hote hote rah gaya

waqt ki raftaar ne badli hai karvat is tarah
aage aage jo chala tha peeche peeche rah gaya

milti julti hi kahaani thi meri us shakhs se
vo mujhe aur main use phir sunte sunte rah gaya

mil gai manzil kisi ko apni kaashif dekhiye
aur koi manzil ki jaanib badhte badhte rah gaya

फ़ासला जब दरमियां में अपने अपने रह गया
हाये फिर मेरा मुक़द्दर बनते बनते रह गया

डूबने लगता है सूरज की तरह हर आदमी
ख़ुद नुमाई का ये जज़्बा जैसे तैसे रह गया

उम्र भर मुझको परीशाँ अब करेगा ये सवाल
कुछ तो था जो उसके लब पर आते आते रह गया

उससे मिलना था यक़ीनन बन्दिशों को तोड़कर
ऐन मुमकिन था ये होना होते होते रह गया

वक़्त की रफ़्तार ने बदली है करवट इस तरह
आगे आगे जो चला था पीछे पीछे रह गया

मिलती जुलती ही कहानी थी मेरी उस शख़्स से
वो मुझे और मैं उसे फिर सुनते सुनते रह गया

मिल गई मन्ज़िल किसी को अपनी काशिफ़ देखिये
और कोई मन्ज़िल की जानिब बढ़ते बढ़ते रह गया

- Kashif Adeeb Makanpuri
1 Like

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kashif Adeeb Makanpuri

As you were reading Shayari by Kashif Adeeb Makanpuri

Similar Writers

our suggestion based on Kashif Adeeb Makanpuri

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari