vo chaand sa ik chehra sone pe suhaaga hai | वो चाँद सा इक चेहरा सोने पे सुहागा है - Kashif Adeeb Makanpuri

vo chaand sa ik chehra sone pe suhaaga hai
aur uspe hai til kaala sone pe suhaaga hai

kuchh farq pada us par badli na ravish uski
deewaana hai aur sehra sone pe suhaaga hai

behaal pareeshaan hoon duniya ka hoon thukraaya
aur mujh pe tira hansna sone pe suhaaga hai

bhaai ki kalaaee par baandha hai jo behnon ne
haan pyaar ka ye dhaaga sone pe suhaaga hai

vo jab bhi kabhi bolein moti se barsate hain
aur jaadu bhara lahja sone pe suhaaga hai

hai naam tira lab par aankhon mein tiri soorat
aur sar pe tira saaya sone pe suhaaga hai

sheereeni hai lazzat hai har lafz anokha hai
ye urdu zabaan bhi kya sone pe suhaaga hai

taarif main kar paauon kis tarah bhala kaashif
vo shakhs hi sarmaaya sone pe suhaaga hai

वो चाँद सा इक चेहरा सोने पे सुहागा है
और उसपे है तिल काला सोने पे सुहागा है

कुछ फ़र्क़ पड़ा उस पर बदली न रविश उसकी
दीवाना है और सहरा सोने पे सुहागा है

बेहाल परीशाँ हूं दुनिया का हूं ठुकराया
और मुझ पे तिरा हँसना सोने पे सुहागा है

भाई की कलाई पर बाँधा है जो बहनों ने
हाँ प्यार का ये धागा सोने पे सुहागा है

वो जब भी कभी बोलें मोती से बरसते हैं
और जादू भरा लहजा सोने पे सुहागा है

है नाम तिरा लब पर आंखों में तिरी सूरत
और सर पे तिरा साया सोने पे सुहागा है

शीरीनी है लज़्ज़त है हर लफ़्ज़ अनोखा है
ये उर्दू ज़बां भी क्या सोने पे सुहागा है

तारीफ़ मैं कर पाऊं किस तरह भला काशिफ़
वो शख़्स ही सरमाया सोने पे सुहागा है

- Kashif Adeeb Makanpuri
1 Like

Chehra Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kashif Adeeb Makanpuri

As you were reading Shayari by Kashif Adeeb Makanpuri

Similar Writers

our suggestion based on Kashif Adeeb Makanpuri

Similar Moods

As you were reading Chehra Shayari Shayari