jab hua irfaan to gham aaraam-e-jaan banta gaya | जब हुआ इरफ़ाँ तो ग़म आराम-ए-जाँ बनता गया - Majrooh Sultanpuri

jab hua irfaan to gham aaraam-e-jaan banta gaya
soz-e-jaanaan dil mein soz-e-deegaraan banta gaya

rafta rafta munkalib hoti gai rasm-e-chaman
dheere dheere naghma-e-dil bhi fugaan banta gaya

main akela hi chala tha jaanib-e-manzil magar
log saath aate gaye aur kaarwaan banta gaya

main to jab jaanoon ki bhar de saaghar-e-har-khaas-o-aam
yun to jo aaya wahi peer-e-mugaan banta gaya

jis taraf bhi chal pade hum aabla-paayaan-e-shauq
khaar se gul aur gul se gulsitaan banta gaya

sharh-e-gham to mukhtasar hoti gai us ke huzoor
lafz jo munh se na nikla dastaan banta gaya

dehr mein majrooh koi jaavedaan mazmoon kahaan
main jise chhoota gaya vo jaavedaan banta gaya

जब हुआ इरफ़ाँ तो ग़म आराम-ए-जाँ बनता गया
सोज़-ए-जानाँ दिल में सोज़-ए-दीगराँ बनता गया

रफ़्ता रफ़्ता मुंक़लिब होती गई रस्म-ए-चमन
धीरे धीरे नग़्मा-ए-दिल भी फ़ुग़ाँ बनता गया

मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर
लोग साथ आते गए और कारवाँ बनता गया

मैं तो जब जानूँ कि भर दे साग़र-ए-हर-ख़ास-ओ-आम
यूँ तो जो आया वही पीर-ए-मुग़ाँ बनता गया

जिस तरफ़ भी चल पड़े हम आबला-पायान-ए-शौक़
ख़ार से गुल और गुल से गुलसिताँ बनता गया

शरह-ए-ग़म तो मुख़्तसर होती गई उस के हुज़ूर
लफ़्ज़ जो मुँह से न निकला दास्ताँ बनता गया

दहर में 'मजरूह' कोई जावेदाँ मज़मूँ कहाँ
मैं जिसे छूता गया वो जावेदाँ बनता गया

- Majrooh Sultanpuri
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Majrooh Sultanpuri

As you were reading Shayari by Majrooh Sultanpuri

Similar Writers

our suggestion based on Majrooh Sultanpuri

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari