daaman wasi'a tha to kahe ko chashm tarsa | दामन वसीअ था तो काहे को चश्म तरसा - Meer Taqi Meer

daaman wasi'a tha to kahe ko chashm tarsa
rahmat khuda ki tujh ko ai abr zor barsa

shaayad kebab kar kar khaaya kabootar un ne
naama uda phire hai us ki gali mein par sa

wahshi mizaaj az-bas maanoos baadyaa hain
un ke junoon mein jungle apna hua hai ghar sa

jis haath mein raha ki us ki kamar hamesha
us haath maarnay ka sar par bandha hai kar sa

sab pech ki ye baatein hain shaairon ki warna
baarik aur naazuk moo kab hai us kamar sa

tarz-e-nigaah us ki dil le gai sabhon ke
kya mumin o brahman kya gabr aur tarsa

tum waqif-e-tareeq-e-betaqati nahin ho
yaa raah-e-do-qadam hai ab door ka safar sa

kuchh bhi ma'aash hai ye ki un ne ek chashmak
jab muddaton hamaara jee dekhne ko tarsa

tuk tark-e-ishq kariye laaghar bahut hue ham
aadha nahin raha hai ab jism-e-ranj-farsa

waiz ko ye jalan hai shaayad ki farbahee se
rehta hai hauz hi mein akshar pada magar sa

andaaz se hai paida sab kuchh khabar hai us ko
go meer be-sar-o-pa zaahir hai be-khabar sa

दामन वसीअ था तो काहे को चश्म तरसा
रहमत ख़ुदा की तुझ को ऐ अब्र ज़ोर बरसा

शायद कबाब कर कर खाया कबूतर उन ने
नामा उड़ा फिरे है उस की गली में पर सा

वहशी मिज़ाज अज़-बस मानूस बादया हैं
उन के जुनूँ में जंगल अपना हुआ है घर सा

जिस हाथ में रहा की उस की कमर हमेशा
उस हाथ मारने का सर पर बंधा है कर सा

सब पेच की ये बातें हैं शाइरों की वर्ना
बारीक और नाज़ुक मू कब है उस कमर सा

तर्ज़-ए-निगाह उस की दिल ले गई सभों के
क्या मोमिन ओ बरहमन क्या गब्र और तरसा

तुम वाकि़फ़-ए-तरीक़-ए-बेताक़ती नहीं हो
याँ राह-ए-दो-क़दम है अब दूर का सफ़र सा

कुछ भी मआश है ये की उन ने एक चश्मक
जब मुद्दतों हमारा जी देखने को तरसा

टुक तर्क-ए-इश्क़ करिए लाग़र बहुत हुए हम
आधा नहीं रहा है अब जिस्म-ए-रंज-फ़र्सा

वाइज़ को ये जलन है शायद कि फ़रबही से
रहता है हौज़ ही में अक्सर पड़ा मगर सा

अंदाज़ से है पैदा सब कुछ ख़बर है उस को
गो 'मीर' बे-सर-ओ-पा ज़ाहिर है बे-ख़बर सा

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari