dil pahuncha halaaki ko nipt kheench kasaala | दिल पहुँचा हलाकी को निपट खींच कसाला - Meer Taqi Meer

dil pahuncha halaaki ko nipt kheench kasaala
le yaar mere sallmahoo allah-taala

kuchh main nahin us dil ki pareshaani ka bais
barham hi mere haath laga tha ye risaala

ma'amoor sharaabon se kabaabon se hai sab dair
masjid mein hai kya shaikh piyaala na nivaala

guzre hai lahu waan sar har khaar se ab tak
jis dasht mein foota hai mere paanv ka chaala

gar qasd udhar ka hai to tak dekh ke aana
ye der hai zehaad na ho khaana-e-khaala

jis ghar mein tire jalwe se ho chaandni ka farsh
waan chadar mahtaab hai makdi ka sa jaalaa

dushman na kudoorat se mere saamne ho jo
talwaar ke ladne ko mere keejo hawala

naamoose mujhe saafi teent ki hai warna
rustam ne meri teg ka hamla na sambhaala

dekhe hai mujhe deeda-e-pur-khushm se vo meer
mere hi naseebon mein tha ye zahar ka pyaala

दिल पहुँचा हलाकी को निपट खींच कसाला
ले यार मिरे सल्लमहू अल्लाह-तआला

कुछ मैं नहीं उस दिल की परेशानी का बाइ'स
बरहम ही मिरे हाथ लगा था ये रिसाला

मा'मूर शराबों से कबाबों से है सब दैर
मस्जिद में है क्या शैख़ पियाला न निवाला

गुज़रे है लहू वाँ सर हर ख़ार से अब तक
जिस दश्त में फूटा है मिरे पाँव का छाला

गर क़स्द उधर का है तो टक देख के आना
ये देर है ज़हाद न हो ख़ाना-ए-ख़ाला

जिस घर में तिरे जल्वे से हो चाँदनी का फ़र्श
वाँ चादर महताब है मकड़ी का सा जाला

दुश्मन न कुदूरत से मिरे सामने हो जो
तलवार के लड़ने को मिरे कीजो हवाला

नामूस मुझे साफ़ी तीनत की है वर्ना
रुस्तम ने मिरी तेग़ का हमला न सँभाला

देखे है मुझे दीदा-ए-पुर-ख़श्म से वो 'मीर'
मेरे ही नसीबों में था ये ज़हर का प्याला

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Religion Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Religion Shayari Shayari