na phir rakkhenge teri rah mein pa ham | न फिर रक्खेंगे तेरी रह में पा हम - Meer Taqi Meer

na phir rakkhenge teri rah mein pa ham
gaye-guzre hain aakhir aise kya ham

khinchegi kab vo tegh-e-naaz yaarab
rahe hain der se sar ko jhuka ham

na jaana ye ki kahte hain kise pyaar
rahein be-lutfiyaan hi yaa to baaham

bane kya khaal-o-zulf-o-khat se dekhen
hue hain kitne ye kaafir faraham

marz hi ishq ka be-dol hai kuchh
bahut karte hain apni si dava ham

kahi paivand hoon yaarab zameen ke
firenge us se yun kab tak juda ham

havas thi ishq karne mein v-lekin
bahut naadim hue dil ko laga ham

kab aage koi marta tha kisi par
jahaan mein kar gaye rasm-e-wafa ham

taaruf kya raha ahl-e-chaman se
hue ik umr ke peeche rihaa ham

mua jis ke liye us ko na dekha
na samjhe meer ka kuchh muddaa ham

न फिर रक्खेंगे तेरी रह में पा हम
गए-गुज़रे हैं आख़िर ऐसे क्या हम

खिंचेगी कब वो तेग़-ए-नाज़ यारब
रहे हैं देर से सर को झुका हम

न जाना ये कि कहते हैं किसे प्यार
रहें बे-लुत्फ़ियाँ ही याँ तो बाहम

बने क्या ख़ाल-ओ-ज़ुल्फ़-ओ-ख़त से देखें
हुए हैं कितने ये काफ़िर फ़राहम

मरज़ ही इश्क़ का बे-डोल है कुछ
बहुत करते हैं अपनी सी दवा हम

कहीं पैवंद हूँ यारब ज़मीं के
फिरेंगे उस से यूँ कब तक जुदा हम

हवस थी इश्क़ करने में व-लेकिन
बहुत नादिम हुए दिल को लगा हम

कब आगे कोई मरता था किसी पर
जहाँ में कर गए रस्म-ए-वफ़ा हम

तआ'रुफ़ क्या रहा अहल-ए-चमन से
हुए इक उम्र के पीछे रिहा हम

मुआ जिस के लिए उस को न देखा
न समझे 'मीर' का कुछ मुद्दआ' हम

- Meer Taqi Meer
0 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari