ham aap hi ko apna maqsood jaante hain | हम आप ही को अपना मक़्सूद जानते हैं - Meer Taqi Meer

ham aap hi ko apna maqsood jaante hain
apne sivaae kis ko maujood jaante hain

izz-o-niyaaz apna apni taraf hai saara
is musht-e-khaak ko ham masjood jaante hain

soorat-pazeer ham bin hargiz nahin ve maane
ahl-e-nazar humeen ko ma'bood jaante hain

ishq un ki aql ko hai jo maa-siwaa hamaare
naacheez jaante hain na-bood jaante hain

apni hi sair karne ham jalva-gar hue the
is ramz ko v-lekin maadood jaante hain

yaarab kase hai naqaa har guncha is chaman ka
raah-e-wafa ko ham to masdood jaante hain

ye zulm-e-be-nihaayat dushwaar-tar ki khooban
bad-vazaiyon ko apni mahmood jaante hain

kya jaane daab sohbat az khwesh raftagaan ka
majlis mein shaikh-saahib kuchh kood jaante hain

mar kar bhi haath aave to meer muft hai vo
jee ke ziyaan ko bhi ham sood jaante hain

हम आप ही को अपना मक़्सूद जानते हैं
अपने सिवाए किस को मौजूद जानते हैं

इज्ज़-ओ-नियाज़ अपना अपनी तरफ़ है सारा
इस मुश्त-ए-ख़ाक को हम मस्जूद जानते हैं

सूरत-पज़ीर हम बिन हरगिज़ नहीं वे माने
अहल-ए-नज़र हमीं को मा'बूद जानते हैं

इश्क़ उन की अक़्ल को है जो मा-सिवा हमारे
नाचीज़ जानते हैं ना-बूद जानते हैं

अपनी ही सैर करने हम जल्वा-गर हुए थे
इस रम्ज़ को व-लेकिन मादूद जानते हैं

यारब कसे है नाक़ा हर ग़ुंचा इस चमन का
राह-ए-वफ़ा को हम तो मसदूद जानते हैं

ये ज़ुल्म-ए-बे-निहायत दुश्वार-तर कि ख़ूबाँ
बद-वज़इयों को अपनी महमूद जानते हैं

क्या जाने दाब सोहबत अज़ ख़्वेश रफ़्तगाँ का
मज्लिस में शैख़-साहिब कुछ कूद जानते हैं

मर कर भी हाथ आवे तो 'मीर' मुफ़्त है वो
जी के ज़ियान को भी हम सूद जानते हैं

- Meer Taqi Meer
0 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari