kahaan tak gair jaasoosi ke lene ko laga aave | कहाँ तक ग़ैर जासूसी के लेने को लगा आवे - Meer Taqi Meer

kahaan tak gair jaasoosi ke lene ko laga aave
ilaahi is balaa-e-na-gahaan par bhi bala aave

ruka jaata hai jee andar hi andar aaj garmi se
bala se chaak hi ho jaave seena tuk hawa aave

tira aana hi ab markooz hai ham ko dam-e-aakhir
ye jee sadqe kiya tha phir na aave tan mein ya aave

ye rasm-e-aamad-o-raft-e-dayaar-e-ishq taaza hai
hasi vo jaaye meri aur rona yun chala aave

aseeri ne chaman se meri dil-garmi ko dho daala
vagarna barq ja kar aashiyaan mera jala aave

umeed-e-rahm un se sakht na-fahmi hai aashiq ki
ye but sangin-dili apni na chhodein gar khuda aave

ye fann-e-ishq hai aave use teent mein jis ki ho
tu zaahid-e-peer-e-na-baaligh hai be tah tujh ko kya aave

hamaare dil mein aane se takalluf gham ko beja hai
ye daulat-khaana hai us ka vo jab chahe chala aave

b-rang-e-boo-e-guncha umr ik hi rang mein guzre
mayassar meer'-saahib gar dil be-muddaa aave

कहाँ तक ग़ैर जासूसी के लेने को लगा आवे
इलाही इस बला-ए-ना-गहाँ पर भी बला आवे

रुका जाता है जी अंदर ही अंदर आज गर्मी से
बला से चाक ही हो जावे सीना टुक हवा आवे

तिरा आना ही अब मरकूज़ है हम को दम-ए-आख़िर
ये जी सदक़े किया था फिर न आवे तन में या आवे

ये रस्म-ए-आमद-ओ-रफ़्त-ए-दयार-ए-इश्क़ ताज़ा है
हँसी वो जाए मेरी और रोना यूँ चला आवे

असीरी ने चमन से मेरी दिल-गर्मी को धो डाला
वगर्ना बर्क़ जा कर आशियाँ मेरा जला आवे

उमीद-ए-रहम उन से सख़्त ना-फ़हमी है आशिक़ की
ये बुत संगीं-दिली अपनी न छोड़ें गर ख़ुदा आवे

ये फ़न्न-ए-इश्क़ है आवे उसे तीनत में जिस की हो
तू ज़ाहिद-ए-पीर-ए-ना-बालिग़ है बे तह तुझ को क्या आवे

हमारे दिल में आने से तकल्लुफ़ ग़म को बेजा है
ये दौलत-ख़ाना है उस का वो जब चाहे चला आवे

ब-रंग‌‌‌‌-ए-बू-ए-ग़ुंचा उम्र इक ही रंग में गुज़रे
मयस्सर 'मीर'-साहिब गर दिल बे-मुद्दआ आवे

- Meer Taqi Meer
1 Like

Dard Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Dard Shayari Shayari