kya karoon sharh khasta-jaani ki | क्या करूँ शरह ख़स्ता-जानी की - Meer Taqi Meer

kya karoon sharh khasta-jaani ki
main ne mar mar ke zindagaani ki

haal-e-bad guftani nahin mera
tum ne poocha to meherbaani ki

sab ko jaana hai yun to par ai sabr
aati hai ik tiri jawaani ki

tishna-lab mar gaye tire aashiq
na mili ek boond paani ki

bait-bahsi samajh ke kar bulbul
dhoom hai meri khush-zabaani ki

jis se khoi thi neend meer ne kal
ibtida phir wahi kahaani ki

क्या करूँ शरह ख़स्ता-जानी की
मैं ने मर मर के ज़िंदगानी की

हाल-ए-बद गुफ़्तनी नहीं मेरा
तुम ने पूछा तो मेहरबानी की

सब को जाना है यूँ तो पर ऐ सब्र
आती है इक तिरी जवानी की

तिश्ना-लब मर गए तिरे आशिक़
न मिली एक बूँद पानी की

बैत-बहसी समझ के कर बुलबुल
धूम है मेरी ख़ुश-ज़बानी की

जिस से खोई थी नींद 'मीर' ने कल
इब्तिदा फिर वही कहानी की

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Ehsaas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Ehsaas Shayari Shayari