sher ke parde mein main ne gham sunaaya hai bahut | शेर के पर्दे में मैं ने ग़म सुनाया है बहुत - Meer Taqi Meer

sher ke parde mein main ne gham sunaaya hai bahut
marsiye ne dil ke mere bhi rulaaya hai bahut

be-sabab aata nahin ab dam-b-dam aashiq ko ghash
dard kheecha hai nihaayat ranj uthaya hai bahut

waadi o kohsaar mein rota hoon daadhe maar maar
dilbaraan-e-shahar ne mujh ko sataaya hai bahut

vaa nahin hota kisoo se dil giriftaa ishq ka
zaahiran gamgeen use rahna khush aaya hai bahut

meer gum-gashta ka milna ittifaqi amr hai
jab kabhu paaya hai khwaahish-mand paaya hai bahut

शेर के पर्दे में मैं ने ग़म सुनाया है बहुत
मरसिए ने दिल के मेरे भी रुलाया है बहुत

बे-सबब आता नहीं अब दम-ब-दम आशिक़ को ग़श
दर्द खींचा है निहायत रंज उठाया है बहुत

वादी ओ कोहसार में रोता हूँ ड़ाढें मार मार
दिलबरान-ए-शहर ने मुझ को सताया है बहुत

वा नहीं होता किसू से दिल गिरफ़्ता इश्क़ का
ज़ाहिरन ग़मगीं उसे रहना ख़ुश आया है बहुत

'मीर' गुम-गश्ता का मिलना इत्तिफ़ाक़ी अम्र है
जब कभू पाया है ख़्वाहिश-मंद पाया है बहुत

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Mehboob Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Mehboob Shayari Shayari