kisi ki marzi ko apni qismat bana chuke hain | किसी की मर्ज़ी को अपनी क़िस्मत बना चुके हैं - Meraj Faizabadi

kisi ki marzi ko apni qismat bana chuke hain
ham apne haathon ki sab lakeeren mita chuke hain

chalo samandar ki wusaaton mein sukoon dhundhe
ki sahilon par bahut gharonde bana chuke hain

unhin chhato se hamaare aangan mein maut barsi
wahi chaten jin se ham patange uda chuke hain

किसी की मर्ज़ी को अपनी क़िस्मत बना चुके हैं
हम अपने हाथों की सब लकीरें मिटा चुके हैं

चलो समंदर की वुसअतों में सुकून ढूँढे
कि साहिलों पर बहुत घरौंदें बना चुके हैं

उन्हीं छतों से हमारे आँगन में मौत बरसी
वही छतें जिन से हम पतंगें उड़ा चुके हैं

- Meraj Faizabadi
10 Likes

Maut Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meraj Faizabadi

As you were reading Shayari by Meraj Faizabadi

Similar Writers

our suggestion based on Meraj Faizabadi

Similar Moods

As you were reading Maut Shayari Shayari