ghar jab bana liya tire dar par kahe baghair | घर जब बना लिया तिरे दर पर कहे बग़ैर - Mirza Ghalib

ghar jab bana liya tire dar par kahe baghair
jaanega ab bhi tu na mera ghar kahe baghair

kahte hain jab rahi na mujhe taqat-e-sukhan
jaanoon kisi ke dil ki main kyunkar kahe baghair

kaam us se aa pada hai ki jis ka jahaan mein
leve na koi naam sitamgar kahe baghair

jee mein hi kuchh nahin hai hamaare wagarana ham
sar jaaye ya rahe na rahein par kahe baghair

chhodunga main na us but-e-kaafir ka poojna
chhode na khalk go mujhe kaafir kahe baghair

maqsad hai naaz-o-ghamza wale guftugoo mein kaam
chalta nahin hai dashna-o-khanjar kahe baghair

har chand ho mushaahida-e-haq ki guftugoo
banti nahin hai baada-o-saagar kahe baghair

bahra hoon main to chahiye doonaa ho iltifaat
sunta nahin hoon baat mukarrar kahe baghair

ghalib na kar huzoor mein tu baar baar arz
zaahir hai tera haal sab un par kahe baghair

घर जब बना लिया तिरे दर पर कहे बग़ैर
जानेगा अब भी तू न मिरा घर कहे बग़ैर

कहते हैं जब रही न मुझे ताक़त-ए-सुख़न
जानूँ किसी के दिल की मैं क्यूँकर कहे बग़ैर

काम उस से आ पड़ा है कि जिस का जहान में
लेवे न कोई नाम सितमगर कहे बग़ैर

जी में ही कुछ नहीं है हमारे वगरना हम
सर जाए या रहे न रहें पर कहे बग़ैर

छोड़ूँगा मैं न उस बुत-ए-काफ़िर का पूजना
छोड़े न ख़ल्क़ गो मुझे काफ़र कहे बग़ैर

मक़्सद है नाज़-ओ-ग़म्ज़ा वले गुफ़्तुगू में काम
चलता नहीं है दशना-ओ-ख़ंजर कहे बग़ैर

हर चंद हो मुशाहिदा-ए-हक़ की गुफ़्तुगू
बनती नहीं है बादा-ओ-साग़र कहे बग़ैर

बहरा हूँ मैं तो चाहिए दूना हो इल्तिफ़ात
सुनता नहीं हूँ बात मुकर्रर कहे बग़ैर

'ग़ालिब' न कर हुज़ूर में तू बार बार अर्ज़
ज़ाहिर है तेरा हाल सब उन पर कहे बग़ैर

- Mirza Ghalib
0 Likes

Justaju Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Justaju Shayari Shayari