har ek baat pe kahte ho tum ki tu kya hai | हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है - Mirza Ghalib

har ek baat pe kahte ho tum ki tu kya hai
tumheen kaho ki ye andaaz-e-guftugu kya hai

na sholay mein ye karishma na barq mein ye ada
koi batao ki vo shokh-e-tund-khoo kya hai

ye rashk hai ki vo hota hai hum-sukhan tum se
vagarna khauf-e-bad-aamoozi-e-adu kya hai

chipak raha hai badan par lahu se pairaahan
hamaare jaib ko ab haajat-e-rafu kya hai

jala hai jism jahaan dil bhi jal gaya hoga
kuredte ho jo ab raakh justuju kya hai

ragon mein daudte firne ke hum nahin qaail
jab aankh hi se na tapka to phir lahu kya hai

vo cheez jis ke liye hum ko ho behisht aziz
sivaae baada-e-gulfaam-e-mushk-boo kya hai

piyuun sharaab agar khum bhi dekh luun do-chaar
ye sheesha o qadah o kuzaa o suboo kya hai

rahi na taqat-e-guftaar aur agar ho bhi
to kis umeed pe kahiye ki aarzoo kya hai

hua hai shah ka musahib phire hai itraata
vagarna shehar mein ghalib ki aabroo kya hai

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तुगू क्या है

न शो'ले में ये करिश्मा न बर्क़ में ये अदा
कोई बताओ कि वो शोख़-ए-तुंद-ख़ू क्या है

ये रश्क है कि वो होता है हम-सुख़न तुम से
वगर्ना ख़ौफ़-ए-बद-आमोज़ी-ए-अदू क्या है

चिपक रहा है बदन पर लहू से पैराहन
हमारे जैब को अब हाजत-ए-रफ़ू क्या है

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तुजू क्या है

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है

वो चीज़ जिस के लिए हम को हो बहिश्त अज़ीज़
सिवाए बादा-ए-गुलफ़ाम-ए-मुश्क-बू क्या है

पियूँ शराब अगर ख़ुम भी देख लूँ दो-चार
ये शीशा ओ क़दह ओ कूज़ा ओ सुबू क्या है

रही न ताक़त-ए-गुफ़्तार और अगर हो भी
तो किस उमीद पे कहिए कि आरज़ू क्या है

हुआ है शह का मुसाहिब फिरे है इतराता
वगर्ना शहर में 'ग़ालिब' की आबरू क्या है

- Mirza Ghalib
21 Likes

Badan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Badan Shayari Shayari