jab tak dahan-e-zakhm na paida kare koi | जब तक दहान-ए-ज़ख़्म न पैदा करे कोई - Mirza Ghalib

jab tak dahan-e-zakhm na paida kare koi
mushkil ki tujh se raah-e-sukhan vaa kare koi

aalam ghubaar-e-vahshat-e-majnoon hai sar-b-sar
kab tak khayal-e-turra-e-laila kare koi

afsurdagi nahin tarab-insha-e-iltifaat
haan dard ban ke dil mein magar ja kare koi

rone se ai nadeem malaamat na kar mujhe
aakhir kabhi to uqda-e-dil vaa kare koi

chaak-e-jigar se jab rah-e-pursish na vaa hui
kya faaeda ki jaib ko rusva kare koi

lakht-e-jigar se hai rag-e-har-khaar shaakh-e-gul
ta chand baagh-baani-e-sehra kare koi

naakaami-e-nigaah hai barq-e-nazaara-soz
tu vo nahin ki tujh ko tamasha kare koi

har sang o khisht hai sadaf-e-gauhar-e-shikast
nuqsaan nahin junoon se jo sauda kare koi

sar bar hui na waada-e-sabr-aazma se umr
furqat kahaan ki teri tamannaa kare koi

hai vahshat-e-tabeeat-e-eejaad yaas-khez
ye dard vo nahin ki na paida kare koi

bekaari-e-junoon ko hai sar peetne ka shughl
jab haath toot jaayen to phir kya kare koi

husn-e-farogh-e-shamma-e-sukhan door hai asad
pehle dil-e-gudaakhta paida kare koi

vehshat kahaan ki be-khudi insha kare koi
hasti ko lafz-e-maani-e-anqa kare koi

jo kuchh hai mahv-e-shokhi-e-abroo-e-yaar hai
aankhon ko rakh ke taq pe dekha kare koi

arz-e-sarishk par hai faza-e-zamaana tang
sehra kahaan ki daawat-e-dariya kare koi

vo shokh apne husn pe maghroor hai asad
dikhla ke us ko aaina toda kare koi

जब तक दहान-ए-ज़ख़्म न पैदा करे कोई
मुश्किल कि तुझ से राह-ए-सुख़न वा करे कोई

आलम ग़ुबार-ए-वहशत-ए-मजनूँ है सर-ब-सर
कब तक ख़याल-ए-तुर्रा-ए-लैला करे कोई

अफ़्सुर्दगी नहीं तरब-इंशा-ए-इल्तिफ़ात
हाँ दर्द बन के दिल में मगर जा करे कोई

रोने से ऐ नदीम मलामत न कर मुझे
आख़िर कभी तो उक़्दा-ए-दिल वा करे कोई

चाक-ए-जिगर से जब रह-ए-पुर्सिश न वा हुई
क्या फ़ाएदा कि जैब को रुस्वा करे कोई

लख़्त-ए-जिगर से है रग-ए-हर-ख़ार शाख़-ए-गुल
ता चंद बाग़-बानी-ए-सहरा करे कोई

नाकामी-ए-निगाह है बर्क़-ए-नज़ारा-सोज़
तू वो नहीं कि तुझ को तमाशा करे कोई

हर संग ओ ख़िश्त है सदफ़-ए-गौहर-ए-शिकस्त
नुक़साँ नहीं जुनूँ से जो सौदा करे कोई

सर बर हुई न वादा-ए-सब्र-आज़मा से उम्र
फ़ुर्सत कहाँ कि तेरी तमन्ना करे कोई

है वहशत-ए-तबीअत-ए-ईजाद यास-खेज़
ये दर्द वो नहीं कि न पैदा करे कोई

बेकारी-ए-जुनूँ को है सर पीटने का शुग़्ल
जब हाथ टूट जाएँ तो फिर क्या करे कोई

हुस्न-ए-फ़रोग़-ए-शम्मा-ए-सुख़न दूर है 'असद'
पहले दिल-ए-गुदाख़्ता पैदा करे कोई

वहशत कहाँ कि बे-ख़ुदी इंशा करे कोई
हस्ती को लफ़्ज़-ए-मानी-ए-अन्क़ा करे कोई

जो कुछ है महव-ए-शोख़ी-ए-अबरू-ए-यार है
आँखों को रख के ताक़ पे देखा करे कोई

अर्ज़-ए-सरिश्क पर है फ़ज़ा-ए-ज़माना तंग
सहरा कहाँ कि दावत-ए-दरिया करे कोई

वो शोख़ अपने हुस्न पे मग़रूर है 'असद'
दिखला के उस को आइना तोड़ा करे कोई

- Mirza Ghalib
0 Likes

Anjam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Anjam Shayari Shayari