mere baare mein kuchh socho mujhe neend aa rahi hai | मिरे बारे में कुछ सोचो मुझे नींद आ रही है - Mohsin Asrar

mere baare mein kuchh socho mujhe neend aa rahi hai
mujhe zaayein na hone do mujhe neend aa rahi hai

mere andar ke dukh chehre se zaahir ho rahe hain
meri tasveer mat kheencho mujhe neend aa rahi hai

to kya saare gile-shikwe abhi kar loge mujh se
kuchh ab kal ke liye rakho mujhe neend aa rahi hai

sehar hogi to dekhenge ki hain kya kya masaail
zara si der sone do mujhe neend aa rahi hai

tumhaara kaam hai saari hisein bedaar rakhna
mere shaane pe sar rakho mujhe neend aa rahi hai

bahut kuchh tum se kehna tha magar main kah na paaya
lo meri diary rakh lo mujhe neend aa rahi hai

मिरे बारे में कुछ सोचो मुझे नींद आ रही है
मुझे ज़ाएअ' न होने दो मुझे नींद आ रही है

मिरे अंदर के दुख चेहरे से ज़ाहिर हो रहे हैं
मिरी तस्वीर मत खींचो मुझे नींद आ रही है

तो क्या सारे गिले-शिकवे अभी कर लोगे मुझ से
कुछ अब कल के लिए रक्खो मुझे नींद आ रही है

सहर होगी तो देखेंगे कि हैं क्या क्या मसाइल
ज़रा सी देर सोने दो मुझे नींद आ रही है

तुम्हारा काम है सारी हिसें बेदार रखना
मिरे शाने पे सर रक्खो मुझे नींद आ रही है

बहुत कुछ तुम से कहना था मगर मैं कह न पाया
लो मेरी डाइरी रख लो मुझे नींद आ रही है

- Mohsin Asrar
6 Likes

Tasweer Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mohsin Asrar

As you were reading Shayari by Mohsin Asrar

Similar Writers

our suggestion based on Mohsin Asrar

Similar Moods

As you were reading Tasweer Shayari Shayari