na kisi ki aankh ka noor hoon na kisi ke dil ka qaraar hoon | न किसी की आँख का नूर हूँ न किसी के दिल का क़रार हूँ - Muztar Khairabadi

na kisi ki aankh ka noor hoon na kisi ke dil ka qaraar hoon
kisi kaam mein jo na aa sake main vo ek musht-e-ghubaar hoon

na dawa-e-dard-e-jigar hoon main na kisi ki meethi nazar hoon main
na idhar hoon main na udhar hoon main na shakeb hoon na qaraar hoon

mera waqt mujh se bichhad gaya mera rang-roop bigad gaya
jo khizaan se baagh ujad gaya main usi ki fasl-e-bahaar hoon

paye faatiha koi aaye kyun koi chaar phool chadaaye kyun
koi aa ke sham'a jalaae kyun main vo bekasi ka mazaar hoon

na main laag hoon na lagaav hoon na suhaag hoon na subhaav hoon
jo bigad gaya vo banaav hoon jo nahin raha vo singaar hoon

main nahin hoon naghma-e-jaan-fazaa mujhe sun ke koi karega kya
main bade birog ki hoon sada main bade dukhi ki pukaar hoon

na main muztar un ka habeeb hoon na main muztar un ka raqeeb hoon
jo bigad gaya vo naseeb hoon jo ujad gaya vo dayaar hoon

न किसी की आँख का नूर हूँ न किसी के दिल का क़रार हूँ
किसी काम में जो न आ सके मैं वो एक मुश्त-ए-ग़ुबार हूँ

न दवा-ए-दर्द-ए-जिगर हूँ मैं न किसी की मीठी नज़र हूँ मैं
न इधर हूँ मैं न उधर हूँ मैं न शकेब हूँ न क़रार हूँ

मिरा वक़्त मुझ से बिछड़ गया मिरा रंग-रूप बिगड़ गया
जो ख़िज़ाँ से बाग़ उजड़ गया मैं उसी की फ़स्ल-ए-बहार हूँ

पए फ़ातिहा कोई आए क्यूँ कोई चार फूल चढ़ाए क्यूँ
कोई आ के शम्अ' जलाए क्यूँ मैं वो बेकसी का मज़ार हूँ

न मैं लाग हूँ न लगाव हूँ न सुहाग हूँ न सुभाव हूँ
जो बिगड़ गया वो बनाव हूँ जो नहीं रहा वो सिंगार हूँ

मैं नहीं हूँ नग़्मा-ए-जाँ-फ़ज़ा मुझे सुन के कोई करेगा क्या
मैं बड़े बिरोग की हूँ सदा मैं बड़े दुखी की पुकार हूँ

न मैं 'मुज़्तर' उन का हबीब हूँ न मैं 'मुज़्तर' उन का रक़ीब हूँ
जो बिगड़ गया वो नसीब हूँ जो उजड़ गया वो दयार हूँ

- Muztar Khairabadi
13 Likes

Nazar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Muztar Khairabadi

As you were reading Shayari by Muztar Khairabadi

Similar Writers

our suggestion based on Muztar Khairabadi

Similar Moods

As you were reading Nazar Shayari Shayari