ghaur se mujh ko dekhta hai kya | ग़ौर से मुझ को देखता है क्या - Nadim Nadeem

ghaur se mujh ko dekhta hai kya
mere chehre pe kuchh likha hai kya

meri aankhon mein jhaankta hai kya
tujh ko in mein hi doobna hai kya

mere honton ko choo liya us ne
kya bataaun mujhe hua hai kya

ai kabootar zara bata mujh ko
un ki chat par bhi baithta hai kya

par kate panchiyon se poochte ho
tum mein udne ka hausla hai kya

faasle ishq mein hi hote hain
tujh ko ye bhi nahin pata hai kya

meri duniya mein bas tu hi tu hai
ab bata tera faisla hai kya

pyaar se maang li hai jaan us ne
mere hisse mein ab bacha hai kya

chal kahi door chalte hain naadim
ghar ko jaane mein bhi rakha hai kya

ग़ौर से मुझ को देखता है क्या
मेरे चेहरे पे कुछ लिखा है क्या

मेरी आँखों में झाँकता है क्या
तुझ को इन में ही डूबना है क्या

मेरे होंटों को छू लिया उस ने
क्या बताऊँ मुझे हुआ है क्या

ऐ कबूतर ज़रा बता मुझ को
उन की छत पर भी बैठता है क्या

पर कटे पंछियों से पूछते हो
तुम में उड़ने का हौसला है क्या

फ़ासले इश्क़ में ही होते हैं
तुझ को ये भी नहीं पता है क्या

मेरी दुनिया में बस तू ही तू है
अब बता तेरा फ़ैसला है क्या

प्यार से माँग ली है जान उस ने
मेरे हिस्से में अब बचा है क्या

चल कहीं दूर चलते हैं 'नादिम'
घर को जाने में भी रखा है क्या

- Nadim Nadeem
2 Likes

Motivational Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nadim Nadeem

As you were reading Shayari by Nadim Nadeem

Similar Writers

our suggestion based on Nadim Nadeem

Similar Moods

As you were reading Motivational Shayari Shayari