tumhaare jaane ka ham ko malaal thodi hai | तुम्हारे जाने का हम को मलाल थोड़ी है - Nadim Nadeem

tumhaare jaane ka ham ko malaal thodi hai
udaasiyon mein tumhaara khayal thodi hai

manaauun kis tarah holi main doston ke saath
hain sab ke haath mein khanjar gulaal thodi hai

mujhe ye gham hai vo ab saath hai raqeebon ke
ye aankh us ke bichhadne se laal thodi hai

sawaal ye hai hawa aayi kis ishaare par
charaagh kis ke bujhe ye sawaal thodi hai

karam hai us ka agar vo nawaazta hai hamein
hamaare sajdon ka is mein kamaal thodi hai

तुम्हारे जाने का हम को मलाल थोड़ी है
उदासियों में तुम्हारा ख़याल थोड़ी है

मनाऊँ किस तरह होली मैं दोस्तों के साथ
हैं सब के हाथ में ख़ंजर गुलाल थोड़ी है

मुझे ये ग़म है वो अब साथ है रक़ीबों के
ये आँख उस के बिछड़ने से लाल थोड़ी है

सवाल ये है हवा आई किस इशारे पर
चराग़ किस के बुझे ये सवाल थोड़ी है

करम है उस का अगर वो नवाज़ता है हमें
हमारे सज्दों का इस में कमाल थोड़ी है

- Nadim Nadeem
4 Likes

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nadim Nadeem

As you were reading Shayari by Nadim Nadeem

Similar Writers

our suggestion based on Nadim Nadeem

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari