kya khabar kis ko kab kahaan de de | क्या ख़बर किस को कब कहाँ दे दे - Nadim Nadeem

kya khabar kis ko kab kahaan de de
aur de de to do jahaan de de

hai yahi ishq ki namaaz ka waqt
hijr uth ja zara azaan de de

ye jo bacche hawa mein koodte hain
in ke haathon mein aasmaan de de

kab talak zindagi safar mein rahe
qabr hi de de par makaan de de

phool kitne udaas lagte hain
ai khuda in ko titliyan de de

ye mere haq mein bol sakte hain
pattharon ko khuda zabaan de de

क्या ख़बर किस को कब कहाँ दे दे
और दे दे तो दो जहाँ दे दे

है यही इश्क़ की नमाज़ का वक़्त
हिज्र उठ जा ज़रा अज़ाँ दे दे

ये जो बच्चे हवा में कूदते हैं
इन के हाथों में आसमाँ दे दे

कब तलक ज़िंदगी सफ़र में रहे
क़ब्र ही दे दे पर मकाँ दे दे

फूल कितने उदास लगते हैं
ऐ ख़ुदा इन को तितलियाँ दे दे

ये मिरे हक़ में बोल सकते हैं
पत्थरों को ख़ुदा ज़बाँ दे दे

- Nadim Nadeem
0 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nadim Nadeem

As you were reading Shayari by Nadim Nadeem

Similar Writers

our suggestion based on Nadim Nadeem

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari