khud ko murshid maan le pyaare kyun aur kya ka bhed samajh | ख़ुद को मुर्शिद मान ले प्यारे क्यूँ और क्या का भेद समझ - Naeem Sarmad

khud ko murshid maan le pyaare kyun aur kya ka bhed samajh
apni soorat takta rah aur phir kaisa ka bhed samajh

tujh se badh kar dasht nahin hai tujh se badh kar gor nahin
is jungle mein aa us gor mein rah maula ka bhed samajh

jaanne waale maanne waalon se afzal hai dhyaan rahe
majnoon mat ban hosh mein rah aur phir leila ka bhed samajh

paani sar se oopar chadhne de saanson ki maala phir
do jaan hota main baith aur dil dariya ka bhed samajh

har iqaar se pehle ik inkaar ki hifazat hoti hai
allah ke bande allah se pehle la ka bhed samajh

ख़ुद को मुर्शिद मान ले प्यारे क्यूँ और क्या का भेद समझ
अपनी सूरत तकता रह और फिर कैसा का भेद समझ

तुझ से बढ़ कर दश्त नहीं है तुझ से बढ़ कर गोर नहीं
इस जंगल में आ उस गोर में रह मौला का भेद समझ

जानने वाले मानने वालों से अफ़ज़ल है ध्यान रहे
मजनूँ मत बन होश में रह और फिर लैला का भेद समझ

पानी सर से ऊपर चढ़ने दे साँसों की माला फिर
दो जान होता मैं बैठ और दिल दरिया का भेद समझ

हर इक़रार से पहले इक इंकार की हिफ़ाज़त होती है
अल्लाह के बंदे अल्लाह से पहले ला का भेद समझ

- Naeem Sarmad
0 Likes

Mehboob Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Naeem Sarmad

As you were reading Shayari by Naeem Sarmad

Similar Writers

our suggestion based on Naeem Sarmad

Similar Moods

As you were reading Mehboob Shayari Shayari