ye pairhan pe pairhan vabaal hai | ये पैरहन पे पैरहन वबाल है - Naeem Sarmad

ye pairhan pe pairhan vabaal hai
so khud ko be-wabaal kar visaal kar

wajood-e-jism-o-jaan se istifaada kar
zara samay nikaal kar visaal kar

lahu ko chulluon mein le ke yun uda
badan pe rang daal kar visaal kar

ameer-e-vahshiyaan-e-ishq hoon so tu
zara si dekh-bhaal kar visaal kar

ye ism-e-kaarsaaz hai junoon padh
ye hosh paayemaal kar visaal kar

tiri ye zard aankhen dekh sharm kar
tu in ka rang laal kar visaal kar

khuda jawaab de na de bigad pade
khuda se bhi sawaal kar visaal kar

visaal-e-yaar gar haraam hai to sun
haraam ko halaal kar visaal kar

khuda ka hijr asl mein visaal hai
so is mein intiqaal kar visaal kar

firaq se gurez kar gurez kar
visaal kar visaal kar visaal kar

ये पैरहन पे पैरहन वबाल है
सो ख़ुद को बे-वबाल कर विसाल कर

वजूद-ए-जिस्म-ओ-जाँ से इस्तिफ़ादा कर
ज़रा समय निकाल कर विसाल कर

लहू को चुल्लुओं में ले के यूँ उड़ा
बदन पे रंग डाल कर विसाल कर

अमीर-ए-वहशियान-ए-इश्क़ हूँ सो तू
ज़रा सी देख-भाल कर विसाल कर

ये इस्म-ए-कारसाज़ है जुनून पढ़
ये होश पाएमाल कर विसाल कर

तिरी ये ज़र्द आँखें देख शर्म कर
तू इन का रंग लाल कर विसाल कर

ख़ुदा जवाब दे न दे बिगड़ पड़े
ख़ुदा से भी सवाल कर विसाल कर

विसाल-ए-यार गर हराम है तो सुन
हराम को हलाल कर विसाल कर

ख़ुदा का हिज्र अस्ल में विसाल है
सो इस में इंतिक़ाल कर विसाल कर

फ़िराक़ से गुरेज़ कर गुरेज़ कर
विसाल कर विसाल कर विसाल कर

- Naeem Sarmad
0 Likes

Diversity Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Naeem Sarmad

As you were reading Shayari by Naeem Sarmad

Similar Writers

our suggestion based on Naeem Sarmad

Similar Moods

As you were reading Diversity Shayari Shayari