kaaf se noon talak shor macha vehshat hai | काफ़ से नून तलक शोर मचा वहशत है - Naeem Sarmad

kaaf se noon talak shor macha vehshat hai
ya'ni is ahad mein jo kuchh bhi hua vehshat hai

la-makaani mein makaan hosh-o-khird ke nahin hain
yun samajh le ki khalaon ka khuda vehshat hai

vo jo ik baat hai jo tujh ko bataai na gai
vo jo ik raaz hai jo khul na saka vehshat hai

ab mera aks kisi taur nahin tootega
mere darvesh ke honthon ki dua vehshat hai

mere maula se aqeedat ki jazaa hai jannat
mere maula se mohabbat ki jazaa hai vehshat hai

mere baalon mein bhi mitti hai tire kooche ki
mere daaman se bhi raazi-ba-razza vehshat hai

naql karta hai meri hosh mein aa deewane
mere andaaz churaane ko saza vehshat hai

काफ़ से नून तलक शोर मचा वहशत है
या'नी इस अहद में जो कुछ भी हुआ वहशत है

ला-मकानी में मकाँ होश-ओ-ख़िरद के नहीं हैं
यूँ समझ ले कि ख़लाओं का ख़ुदा वहशत है

वो जो इक बात है जो तुझ को बताई न गई
वो जो इक राज़ है जो खुल न सका वहशत है

अब मिरा अक्स किसी तौर नहीं टूटेगा
मेरे दरवेश के होंठों की दुआ वहशत है

मेरे मौला से अक़ीदत की जज़ा है जन्नत
मेरे मौला से मोहब्बत की जज़ा है वहशत है

मेरे बालों में भी मिट्टी है तिरे कूचे की
मेरे दामन से भी राज़ी-बा-रज़ा वहशत है

नक़्ल करता है मेरी होश में आ दीवाने
मेरे अंदाज़ चुराने को सज़ा वहशत है

- Naeem Sarmad
0 Likes

Zulf Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Naeem Sarmad

As you were reading Shayari by Naeem Sarmad

Similar Writers

our suggestion based on Naeem Sarmad

Similar Moods

As you were reading Zulf Shayari Shayari