kaaba kaashi ganga jamna koocha aur bazaar sakhi | काबा काशी, गंगा जमना, कूचा और बाज़ार सखी - Naeem Sarmad

kaaba kaashi ganga jamna koocha aur bazaar sakhi
uske do nainon ke aage sab kuchh hai bekar sakhi

uska maatha him parbat sa ooncha aur chamkeela hai
aur uske komal adhron se bahti hai rasdhaar sakhi

uski zulfen kaali shab hain shaane ugte suraj se
aur ye raatein choom rahi hain din ko baarimbaar sakhi

shvet hiran ke jaise mere pore aur uska seena
shab ke jungle chaan rahe hain paanchon pakke yaar sakhi

ik yusuf hai jiski khaatir ungaliyaan kaate baithi hoon
ek maseeha ke chakkar mein ho gai hoon beemaar sakhi

ham dono ke yaar sakhi ri sab ke sab albele hain
main leila ki pakki saheli vo majnu ke yaar sakhi

काबा काशी, गंगा जमना, कूचा और बाज़ार सखी
उसके दो नैनों के आगे सब कुछ है बेकार सखी

उसका माथा हिम पर्बत सा ऊँचा और चमकीला है
और उसके कोमल अधरों से बहती है रसधार सखी

उसकी ज़ुल्फ़ें काली शब हैं, शाने उगते सूरज से
और ये रातें चूम रही हैं दिन को बारम्बार सखी

श्वेत हिरन के जैसे मेरे पोरे और उसका सीना
शब के जंगल छान रहे हैं पाँचों पक्के यार सखी

इक यूसुफ़ है जिसकी ख़ातिर उँगलियाँ काटे बैठी हूँ
एक मसीहा के चक्कर में हो गई हूँ बीमार सखी

हम दोनों के यार सखी री सब के सब अलबेले हैं
मैं लैला की पक्की सहेली वो मजनू के यार सखी

- Naeem Sarmad
3 Likes

Environment Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Naeem Sarmad

As you were reading Shayari by Naeem Sarmad

Similar Writers

our suggestion based on Naeem Sarmad

Similar Moods

As you were reading Environment Shayari Shayari